Commerce (Hindi Medium) Class 12 [१२ वीं कक्षा] - CBSE Question Bank Solutions

Advertisements
Subjects
Topics
Subjects
Popular subjects
Topics

Please select a subject first

Advertisements
Advertisements
< prev  1 to 20 of 6269  next > 

अलाभकारी संस्थाओं का आशय स्पष्ट कीजिए।

[0.01] अलाभकारी संस्थाओं के लिए लेखांकन
Chapter: [0.01] अलाभकारी संस्थाओं के लिए लेखांकन
Concept: अलाभकारी संस्थाओं का अधं एवं विशेषताएँ

साझेदारी क्या है?

[0.02] साझेदारी लेखांकन - आधारभूत अवधारणाएँ
Chapter: [0.02] साझेदारी लेखांकन - आधारभूत अवधारणाएँ
Concept: साझेदारी की प्रकृति

Advertisements

साझेदारी की प्रमुख विशिष्टताओं की व्याख्या करें।

[0.02] साझेदारी लेखांकन - आधारभूत अवधारणाएँ
Chapter: [0.02] साझेदारी लेखांकन - आधारभूत अवधारणाएँ
Concept: साझेदारी की प्रकृति

किन-किन परिस्थितियों में एक साझेदार फर्म से सेवानितृत्त हो सकता है।

[0.04] साझेदारी फर्म का पुनर्गठन : साझेदारी की सेवानिवृति/मृत्यु
Chapter: [0.04] साझेदारी फर्म का पुनर्गठन : साझेदारी की सेवानिवृति/मृत्यु
Concept: सेवानिवृत्त/मृत्त साझेदार को देय राशि का निर्धारण

एक साझेदार की सेवानिवृत्ति के समय किए जाने वाले विभिन्न समायोजनों का वर्णन कीजिए।

[0.04] साझेदारी फर्म का पुनर्गठन : साझेदारी की सेवानिवृति/मृत्यु
Chapter: [0.04] साझेदारी फर्म का पुनर्गठन : साझेदारी की सेवानिवृति/मृत्यु
Concept: सेवानिवृत्त/मृत्त साझेदार को देय राशि का निर्धारण

किसी साझेदार के सेवानिवृत्ति/मृत्यु के समय फर्म को अपनी परिसंपत्तियों का मूल्यांकन और दायित्वों के दोबारा निर्धारण की आवश्यकता क्यों होती है?

[0.04] साझेदारी फर्म का पुनर्गठन : साझेदारी की सेवानिवृति/मृत्यु
Chapter: [0.04] साझेदारी फर्म का पुनर्गठन : साझेदारी की सेवानिवृति/मृत्यु
Concept: सेवानिवृत्त/मृत्त साझेदार को देय राशि का निर्धारण

आप मृत साझेदार के देय राशि की गणना किस प्रकार करेंगे।

[0.04] साझेदारी फर्म का पुनर्गठन : साझेदारी की सेवानिवृति/मृत्यु
Chapter: [0.04] साझेदारी फर्म का पुनर्गठन : साझेदारी की सेवानिवृति/मृत्यु
Concept: सेवानिवृत्त/मृत्त साझेदार को देय राशि का निर्धारण

अपर्णा, मनीषा और सोनिया लाभ का विभाजन 3 : 2 : 1 में करते हुए साझेदार हैं। मनीषा सेवानिवृत्त करती है तथा फर्म की ख्याति का मूल्यांकन 1,80,000 रुपये किया गया। अपर्णा तथा सोनिया भविष्य के लाभों का बँटवारा 3: 2 के अनुपात में करने का निर्णय लेती हैं। आवश्यक रोज़नामचा प्रविष्टियाँ कीजिए।

[0.04] साझेदारी फर्म का पुनर्गठन : साझेदारी की सेवानिवृति/मृत्यु
Chapter: [0.04] साझेदारी फर्म का पुनर्गठन : साझेदारी की सेवानिवृति/मृत्यु
Concept: सेवानिवृत्त/मृत्त साझेदार को देय राशि का निर्धारण

नरेश, राजकुमार तथा विश्वजीत बराबर के साझेदार हैं। राजकुमार सेवानिवृत्त होने का निर्णय लेता है। सेवानिवृत्ति की तिधि को फर्म का तुलन पत्र इस प्र  इस प्रकार दर्शाया जाता हैः

सामान्य संचय 36,000 रूपये तथा लाभ एवं हानि खाता (नाम) 15,000 रुपये। उपर्युक्त का प्रभाव दर्शाते हुए आवश्यक रोज़नामचा प्रविष्टि का अभिलेखन करें।

[0.04] साझेदारी फर्म का पुनर्गठन : साझेदारी की सेवानिवृति/मृत्यु
Chapter: [0.04] साझेदारी फर्म का पुनर्गठन : साझेदारी की सेवानिवृति/मृत्यु
Concept: सेवानिवृत्त/मृत्त साझेदार को देय राशि का निर्धारण

पंकज, नरेश तथा सौरभ साझेदार हैं उनका लाभ विभाजन अनुपात 3 : 2 : 1 है। नरेश ने बीमारी के कारण फर्म से सेवानिवृत्ति ली। इस तिथि को फर्म का तुलन पत्र निम्न है:

पंकब, नरेश और सौरम की पुस्तके
31 मार्च, 2017 को तुलन पत्र

दायित्व    राशि
(रु.)
परिसंपत्तियाँ   राशि
(रु.)
सामान्य संचय   12,000 बैक   7,600
विविध लेनदार   15,000 देनदार 6,000

5,600

देय विपत्र   12,000

घटाया: संदिग्ध ऋणो 
के लिए प्रावधान

(400)

बकाया वेतन

  2,200 स्टॉक   9,000
कानूनी हानि के
लिए प्रावधान

 

6,000 फ़र्नीचर    41,000
पूँजी:     परिसर   80,000
पंकज 46,000 96,000      

नरेश

30,000      
सौरभ

20,000

     
 

 

1,43,200     1,43,200

अतिरिक्त सूचनाएँ -

  1. परिसर का मूल्य 20% अधिक हुआ, स्टॉक 10 % से कम हुआ तथा देनदारों पर संदिग्ध ऋण के लिए 5 % का प्रावधान करें। कानून से हानि के लिए 1,200 रुपये का प्रावधान बनाएँ तथा फर्नीचर का मूल्य 45,000 रुपये अधिक हुआ।
  2. फर्म की ख्याति का मूल्यांकन 42,000 रूपये किया गया।
  3. नरेश के पूँजी खाते से 26,000 रूपये का ऋण में हस्तांतरण किया गया तथा शेष का भुगतान बैंक से किया गया। यदि आवश्यक हुआ तो बैंक से ऋण लिया जाएगा।
  4. पंकज तथा सौरभ ने यह निर्णय लिया कि लाभ व हानि के विभाजन का नया अनुपात 5 : 1 होगा। नरेश के सेवानिवृत्त होने के बाद आवश्यक बही खाता तथा तुलन पत्र तैयार करें।
[0.04] साझेदारी फर्म का पुनर्गठन : साझेदारी की सेवानिवृति/मृत्यु
Chapter: [0.04] साझेदारी फर्म का पुनर्गठन : साझेदारी की सेवानिवृति/मृत्यु
Concept: सेवानिवृत्त/मृत्त साझेदार को देय राशि का निर्धारण

31 मार्च, 2020 को प्रतीक, रॉकी तथा कुशल का तुलन पत्र निम्न प्रकार है:

 प्रतिक, रॉकी और कुशल की पुस्तकें
31 मार्च, 2020 को तुलन पत्र
दायित्व    राशि
(रु.)
परिसंपत्तियाँ राशि
(रु.)
विविध लेनदार   16,000 प्राप्त विपत्र 16,000
सामान्य संचय   16,000 फ़र्नीचर 22,600
पूँजी खाते:     स्टॉक 20,400
प्रतिक 30,000 70,000 विविध देनदार 22,000
रॉकी 20,000 बैंकस्थ रोकड़  18,000
कुशल 20,000 हस्तस्थ रोकड़ 3,000
    1,02,000   1,02,000

30 जून, 2020 को रॉकी की मृत्यु हो गई। साझेदारी संलेख की शर्तों के अनुसार, मृत साझेदार का उत्तराधिकारी निम्न का अधिकारी होगा:

(अ) साझेदार के पूँजी खाते के नाम शेष का।

(ब) पूँजी पर 5 % प्रतिवर्ष ब्याज का।

(स) गत तीन वर्षों के औसत लाभ के दोगुने के आधार पर ख्यांति में भाग।

(द) गत वर्ष के लाभ के आधार पर गत वित्तीय वर्ष की समाप्ति से मृत्यु की तिथि तक लाभ में भाग। 31 मार्च, 2018, 31 मार्च, 2019 तथा 31 मार्च, 2020 को समाप्त वर्ष के लाभ क्रमश: 12,000 रुपये, 16,000 रूपये, तथा 14,000 रूपये है। लाभ का विभाजन पूँजी अनुपात में किया जाएगा।
आवश्यक रोजनामचा प्रविष्टियाँ दे तथा रॉकी का पूँजी खाता बनाए जो कि उसके उत्तराधिकारी को दिया जाएगा।

[0.04] साझेदारी फर्म का पुनर्गठन : साझेदारी की सेवानिवृति/मृत्यु
Chapter: [0.04] साझेदारी फर्म का पुनर्गठन : साझेदारी की सेवानिवृति/मृत्यु
Concept: सेवानिवृत्त/मृत्त साझेदार को देय राशि का निर्धारण

साझेदारी का विधटन और साझेदारी फर्म के विघटन के मध्य अंतर को स्पष्ट कीजिए।

[0.05] साझेदारी फर्म का विघटन
Chapter: [0.05] साझेदारी फर्म का विघटन
Concept: साझेदारी का विघटन

कंपनी शब्द का क्या अर्थ है?

[0.01] अंशपूँजी के लिए लेखांकन
Chapter: [0.01] अंशपूँजी के लिए लेखांकन
Concept: कंपनी की विशेषताएँ

कंपनी के विशेषताओं का वर्णन करें।

[0.01] अंशपूँजी के लिए लेखांकन
Chapter: [0.01] अंशपूँजी के लिए लेखांकन
Concept: कंपनी की विशेषताएँ

वित्तीय विवरणों का अर्थ स्पष्ट कीजिए।

[0.03] कंपनी के वित्तीय विवरण
Chapter: [0.03] कंपनी के वित्तीय विवरण
Concept: वित्तीया विवरणों का अर्थ

एक ऋणपत्र से क्या तात्पर्य है?

[0.02] ॠणपत्रों का निर्गम एवं मोचन
Chapter: [0.02] ॠणपत्रों का निर्गम एवं मोचन
Concept: ॠणपत्र का आशय

'ऋणपत्र' पत्र 'अंश' से भिन्न क्यों होते हैं, दो अंतर बताइए?

[0.02] ॠणपत्रों का निर्गम एवं मोचन
Chapter: [0.02] ॠणपत्रों का निर्गम एवं मोचन
Concept: ॠणपत्र का आशय

ए. लिमिटेड ने 8% के बट्टे पर 50 रु. प्रत्येक के 90,00,000, 9% ऋणपत्र पर जारी किए जो 9 वर्ष बाद सममूल्य पर मोचनीय हैं। ए लिमिटेड की खाता पुस्तकों हेतु आवश्यक प्रविष्टियाँ करें।

[0.02] ॠणपत्रों का निर्गम एवं मोचन
Chapter: [0.02] ॠणपत्रों का निर्गम एवं मोचन
Concept: ॠणपत्र का आशय

बी लिमिटेड ने 1 अप्रैल 2014 को 5% बट्टे पर 100 रु. प्रत्येक के 1,000, 12% ऋणपत्र निर्गमित किए जो परिपक्वता अवधि पर 10% प्रीमियम के साथ मोचनीय हैं। ऋणपत्र के निर्गम से संबंधित रोजनामचा प्रविष्टियाँ तैयार करें तथा 31 मार्च 2015 की समाप्त अवधि से ऋणपत्र पर ब्याज यह मानकर परिकलित करें कि अर्धवार्षिक (30 सितंबर व 31 मार्च को) ब्याज देय है तथा स्रोत पर 10% टी डी एस कटौती होती है। इन मामलों हेतु क्या रोजनामचा प्रविष्टियाँ की जाएँगी जहाँ कंपनी ऋणपत्र अवधि पूरी होने पर सूचना भेज कर ऋणपत्र मोचित करती है-

(क) ऋणपत्रों को सममूल्य पर इस शर्त में जारी किया कि मोचन प्रीमियम के साथ होगा;
(ख) जब ऋणपत्रों को इस शर्त के साथ प्रीमियम के साथ जारी किया गया कि मोचन सममूल्य पर होगा; और
(ग) जब ऋणपत्रों को बट्टे पर जारी किया गया तथा प्रीमियम के साथ मोचन किया गया।
[0.02] ॠणपत्रों का निर्गम एवं मोचन
Chapter: [0.02] ॠणपत्रों का निर्गम एवं मोचन
Concept: ॠणपत्र का आशय

वित्तीय विवरण का निम्नलिखित के लिए महत्व बताइए-

अंशधारक

[0.03] कंपनी के वित्तीय विवरण
Chapter: [0.03] कंपनी के वित्तीय विवरण
Concept: वित्तीया विवरणों का अर्थ
< prev  1 to 20 of 6269  next > 
Advertisements
Share
Notifications



      Forgot password?
Use app×