Advertisement Remove all ads

Primary School (English Medium) Class 4 - CBSE Question Bank Solutions for Hindi (हिंदी)

Subjects
Topics
Subjects
Popular subjects
Topics
Advertisement Remove all ads
Advertisement Remove all ads
Hindi (हिंदी)
< prev  1 to 20 of 261  next > 

कहानी के बारे में कोई पाँच प्रश्न बनाकर नीचे दी गई जगह में लिखो। कॉपी में उनके उत्तर लिखो।

  • __________________
  • __________________
  • __________________
  • __________________
  • __________________
[0.05] दोस्त की पोशाक
Chapter: [0.05] दोस्त की पोशाक
Concept: दोस्त की पोशाक

नसीरुद्दीन और जमाल साहब बनठन कर घूमने के लिए निकले।

तुम बनठन कर कहाँ-कहाँ जाते हो?

[0.05] दोस्त की पोशाक
Chapter: [0.05] दोस्त की पोशाक
Concept: दोस्त की पोशाक

नसीरुद्दीन और जमाल साहब बनठन कर घूमने के लिए निकले।

तुम किस-किस तरह से बनते-ठनते हो?

[0.05] दोस्त की पोशाक
Chapter: [0.05] दोस्त की पोशाक
Concept: दोस्त की पोशाक

तीसरे मकान से बाहर निकलकर जमाल साहब ने नसीरुद्दीन से क्या कहा होगा?

[0.05] दोस्त की पोशाक
Chapter: [0.05] दोस्त की पोशाक
Concept: दोस्त की पोशाक

जमाल साहब अपने मामूली से कपड़ों में घूमने क्यों नहीं जाना चाहते होंगे?

[0.05] दोस्त की पोशाक
Chapter: [0.05] दोस्त की पोशाक
Concept: दोस्त की पोशाक

नसीरुद्दीन अपनी अचकन के बारे में हमेशा क्यों बताते होंगे?

[0.05] दोस्त की पोशाक
Chapter: [0.05] दोस्त की पोशाक
Concept: दोस्त की पोशाक

जब जमाल साहब और नसीरुद्दीन हुसैन साहब के घर से बाहर निकले तो उन्होंने अपनी बेगम को नसीरुद्दीन और जमाल साहब से मुलाकात का किस्सा सुनाया। उन दोनों के बीच में क्या बातचीत हुई होगी? लिखकर बताओ।

बेगम – कौन आया था?

हुसैन साहब – नसीरुद्दीन अपने दोस्त के साथ आया था।

बेगम – __________________

[0.05] दोस्त की पोशाक
Chapter: [0.05] दोस्त की पोशाक
Concept: दोस्त की पोशाक

नसीरुद्दीन ने कहा, “चलो दोस्त, मोहल्ले में घूम आएँ।”

जब नसीरुद्दीन अपने दोस्त से मिले, वे उसे अपना मोहल्ला दिखाने ले गए।

जब तुम अपने दोस्तों से मिलते हो, तब क्या-क्या करते हो?

[0.05] दोस्त की पोशाक
Chapter: [0.05] दोस्त की पोशाक
Concept: दोस्त की पोशाक

नीचे कुछ वाक्य लिखे हैं। तुम्हें इनका अभिनय करना है। तुम चाहो तो कहानी में देख सकते हो कि इन कामों का ज़िक्र कहाँ आया है।

  • बनठन कर घूमने के लिए निकलना।
  • घड़ों पानी पड़ना।
  • मुँह बनाकर शिकायत करना।
  • गर्मजोशी से स्वागत करना।
  • नाराज़ होना।
  • देखते ही रह जाना।
[0.05] दोस्त की पोशाक
Chapter: [0.05] दोस्त की पोशाक
Concept: दोस्त की पोशाक

नसीरुद्दीन की बात सुनकर जमाल साहब पर तो मानो घड़ों पानी पड़ गया।

घड़ों पानी पड़ना एक मुहावरा है। इसका क्या मतलब हो सकता है? पता लगाओ। तुम इसका मतलब पता करने के लिए अपने साथियों या बड़ों से बातचीत कर सकते हो या शब्दकोश देख सकते हो।

[0.05] दोस्त की पोशाक
Chapter: [0.05] दोस्त की पोशाक
Concept: दोस्त की पोशाक

घड़ों पानी पड़ना इस मुहावरों को सुनकर मन में एक चित्र सा बनता है। तुम भी किन्हीं दो मुहावरों के बारे में चित्र बनाओ। कुछ मुहावरे हम दे देते हैं। तुम चाहो तो इनमें से कोई पसंद कर सकते हो-

  • सिर मुंडाते ही ओले पड़ना
  • ऊँट के मुँह में जीरा
  • दीया तले अँधेरा
  • ईद का चाँद
[0.05] दोस्त की पोशाक
Chapter: [0.05] दोस्त की पोशाक
Concept: दोस्त की पोशाक

नसीरुद्दीन एक भड़कीली अचकन निकालकर लाए।

भड़कीली शब्द बता रहा है कि अचकन कैसी थी। कहानी में से ऐसे ही और शब्द छाँटो जो किसी के बारे में कुछ बताते हों। उन्हें छाँटकर नीचे दी गई जगह में लिखो।

देखें, कौन सबसे ज़्यादा ऐसे शब्द ढूंढ़ पाता है।

पुराना दोस्त ____________ ____________
____________ ____________ ____________
____________ ____________ ____________

भड़कीली, पुराना जैसे शब्द किसी के बारे में कुछ खास या विशेष बात बता रहे हैं। इसलिए इन्हें विशेषण कहते हैं।

[0.05] दोस्त की पोशाक
Chapter: [0.05] दोस्त की पोशाक
Concept: दोस्त की पोशाक

पड़ोस के घर में जाकर नसीरुद्दीन पड़ोसी से मिले।

तुम अपने पड़ोसी बच्चों के साथ बहुत-से खेल खेलते हो। पर क्या तुम उनके परिवार के बारे में जानते हो?

चलो, दोस्तों के बारे में और जानकारी इकट्ठी करते हैं। यदि तुम चाहो तो उनसे ये बातें पूछ सकते हो-

  • घर में कुल कितने लोग हैं?
  • उनके नाम क्या हैं?
  • उनकी आयु क्या है?
  • वे क्या काम करते हैं?

इस सूची में तुम अपने मन से बहुत-से सवाल जोड़ सकते हो।

[0.05] दोस्त की पोशाक
Chapter: [0.05] दोस्त की पोशाक
Concept: दोस्त की पोशाक

झूठा – जूठा

इन शब्दों को बोलकर देखो। ये मिलती-जुलती आवाज़ वाले शब्द हैं। ज़रा से अंतर से भी शब्द का अर्थ बदल जाती है।

नीचे इसी तरह का कुछ शब्द का जोड़ा दिया गया हैं। इसका अर्थ अलग हैं। इस शब्द का वाक्य में प्रयोग करो।

घड़ा - गढ़ा

[0.05] दोस्त की पोशाक
Chapter: [0.05] दोस्त की पोशाक
Concept: दोस्त की पोशाक

झूठा – जूठा

इन शब्दों को बोलकर देखो। ये मिलती-जुलती आवाज़ वाले शब्द हैं। ज़रा से अंतर से भी शब्द का अर्थ बदल जाती है।

नीचे इसी तरह का कुछ शब्द का जोड़ा दिया गया हैं। इसका अर्थ अलग हैं। इस शब्द का वाक्य में प्रयोग करो।

घूम - झूम

[0.05] दोस्त की पोशाक
Chapter: [0.05] दोस्त की पोशाक
Concept: दोस्त की पोशाक

झूठा – जूठा

इन शब्दों को बोलकर देखो। ये मिलती-जुलती आवाज़ वाले शब्द हैं। ज़रा से अंतर से भी शब्द का अर्थ बदल जाती है।

नीचे इसी तरह का कुछ शब्द का जोड़ा दिया गया हैं। इसका अर्थ अलग हैं। इस शब्द का वाक्य में प्रयोग करो।

राज - राज़

[0.05] दोस्त की पोशाक
Chapter: [0.05] दोस्त की पोशाक
Concept: दोस्त की पोशाक

झूठा – जूठा

इन शब्दों को बोलकर देखो। ये मिलती-जुलती आवाज़ वाले शब्द हैं। ज़रा से अंतर से भी शब्द का अर्थ बदल जाती है।

नीचे इसी तरह का कुछ शब्द का जोड़ा दिया गया हैं। इसका अर्थ अलग हैं। इस शब्द का वाक्य में प्रयोग करो।

फ़न - फन

[0.05] दोस्त की पोशाक
Chapter: [0.05] दोस्त की पोशाक
Concept: दोस्त की पोशाक

झूठा – जूठा

इन शब्दों को बोलकर देखो। ये मिलती-जुलती आवाज़ वाले शब्द हैं। ज़रा से अंतर से भी शब्द का अर्थ बदल जाती है।

नीचे इसी तरह का कुछ शब्द का जोड़ा दिया गया हैं। इसका अर्थ अलग हैं। इस शब्द का वाक्य में प्रयोग करो।

सजा - सज़ा

[0.05] दोस्त की पोशाक
Chapter: [0.05] दोस्त की पोशाक
Concept: दोस्त की पोशाक

झूठा – जूठा

इन शब्दों को बोलकर देखो। ये मिलती-जुलती आवाज़ वाले शब्द हैं। ज़रा से अंतर से भी शब्द का अर्थ बदल जाती है।

नीचे इसी तरह का कुछ शब्द का जोड़ा दिया गया हैं। इसका अर्थ अलग हैं। इस शब्द का वाक्य में प्रयोग करो।

खोल - खौल 

[0.05] दोस्त की पोशाक
Chapter: [0.05] दोस्त की पोशाक
Concept: दोस्त की पोशाक

हर बार भीखूभाई कम दाम देना चाहते थे। क्यों?

[0.14] मुफ़्त ही मुफ़्त
Chapter: [0.14] मुफ़्त ही मुफ़्त
Concept: मुफ़्त ही मुफ़्त
< prev  1 to 20 of 261  next > 
Advertisement Remove all ads
Share
Notifications

View all notifications


      Forgot password?
View in app×