Advertisement Remove all ads

SSC (Marathi Medium) 10th Standard [इयत्ता १० वी] - Maharashtra State Board Important Questions

Subjects
Topics
Subjects
Popular subjects
Topics

Please select a subject first

Advertisement Remove all ads
Advertisement Remove all ads
< prev  1 to 20 of 287  next > 

निम्नलिखित वाक्य का रचना के आधार पर भेद पहचानकर लिखिए:

चंपा के पौधे लगा लिए हैं।

Appears in 2 question papers
Chapter: [0.06] वाक्‍य के प्रकार
Concept: वाक्‍य के प्रकार

निम्नलिखित मुहावरे का अर्थ लिखकर वाक्य में प्रयोग कीजिए:

शेखी बघारना -

Appears in 2 question papers
Chapter: [0.03] व्याकरण विभाग (भाषा अध्ययन)
Concept: व्याकरण (10th Standard)

पद्ये शुद्ध पूर्णे च लिखत।

रामाभिषेके ____________ 
____________ ठं ठठं ठः।।

Appears in 2 question papers
Chapter: [0.1] चित्रकाव्यम्।(पद्यम्)
Concept: चित्रकाव्यम्।

निम्नलिखित पठित पद्यांश पढ़कर दी गई सूचनाओं के अनुसार कृतियाँ कीजिए:

सोंधी-सोंधी-सी सुगंध, माटी से बोली,
बादल बरस गया, धरती ने आँखें खोलीं।

चारों ओर हुई हरियाली कहे मयूरा,
सदियों का जो सपना है हो जाए पूरा।
एक यहाँ पर नहीं अकेला, होगी टोली,
सोंधी-सोंधी-सी सुगंध, माटी से बोली।।

बाग-बगीचे, ताल-तलैया सब मुस्काएँ,
झूम-झूमकर मस्ती में तरु गीत सुनाएँ।
मस्त पवन ने अब खोली है अपनी झोली,
सोंधी-सोंधी-सी सुगंध, माटी से बोली।।

(1) संजाल पूर्ण कीजिए:  (2)

(2) पदयांश को अंतिम चार पंक्तियों का सरल अर्थ 25 से 30 शब्दों में लिखिए।  (2)

Appears in 1 question paper
Chapter: [0.01] सोंधी सुगंध
Concept: सोंधी सुगंध

मानक वर्तनी के अनुसार सही शब्द छाँटकर लिखिए:

Appears in 1 question paper
Chapter: [0.01] शब्‍द भेद
Concept: शब्‍द भेद

मानक वर्तनी के अनुसार सही शब्द छाँटकर लिखिए:

Appears in 1 question paper
Chapter: [0.01] शब्‍द भेद
Concept: शब्‍द भेद

निम्नलिखित जानकारी के आधार पर पत्रलेखन कीजिए:

'कोपरी रहिवासी संघ; ए - १११, कोपरी, विलास भवन, ठाणे (पश्चिम) से मंडल आयुक्‍त, जोन - ३, महानगरपालिका, कोपरी, ठाणे (पश्चिम) को क्षेत्र में फैली गंदगी के संबंध में शिकायत-पत्र लिखते हैं।

Appears in 1 question paper
Chapter: [0.01] पत्रलेखन
Concept: पत्रलेखन

औरंगाबाद में रहने वाला/वाली सोहम शर्मा/सीमा शर्मा अपना/अपनी मित्र/सहेली, मोहन/मोहिनी पांडे को “व्यायाम का महत्त्व” समझाते हुए पत्र लिखता/लिखती है।

Appears in 1 question paper
Chapter: [0.01] पत्रलेखन
Concept: पत्रलेखन

मानक वर्तनी के अनुसार कृतियाँ कीजिए:

Appears in 1 question paper
Chapter: [0.01] शब्‍द भेद
Concept: शब्‍द भेद

मानक वर्तनी के अनुसार कृतियाँ कीजिए:

Appears in 1 question paper
Chapter: [0.01] शब्‍द भेद
Concept: शब्‍द भेद

निम्नलिखित जानकारी के आधार पर पत्र-लेखन कीजिए:

'शरद/शारदा इंगले, तुकाई सदन, तिलक नगर, चालीसगाँव से व्यवस्थापक मनुश्री पुस्तक भंडार, महात्मा नगर,'जलगाँव को हिंदी की निम्नलिखित पुस्तकें मँगवाने हेतु पत्र लिखता/लिखती है।

अ. क्र. पुस्तकों के नाम लेखक प्रतियाँ
1. गोदान प्रेमचंद 4
2. पानी के प्राचीर रामदरश मिश्र 6
3. पिंजर अमृता प्रीतम 3
Appears in 1 question paper
Chapter: [0.01] पत्रलेखन
Concept: पत्रलेखन

'प्रकाश/प्रगति सालुंखे, वर्तकनगर, जालना से अपने मित्र/सहेली गौरव/गौरवी चव्हाण, आह्लाद नगर, बीड को जन्मदिन की बधाई देने हेतु पत्र लिखता/लिखती है।

Appears in 1 question paper
Chapter: [0.01] पत्रलेखन
Concept: पत्रलेखन

सही शब्द छाँटकर लिखिए:

Appears in 1 question paper
Chapter: [0.01] शब्‍द भेद
Concept: शब्‍द भेद

सही शब्द छाँटकर लिखिए:

Appears in 1 question paper
Chapter: [0.01] शब्‍द भेद
Concept: शब्‍द भेद

सुमित/सुमिता तुपे, 3, 'लताकुंज', महात्मा नगर, वर्धा से अपने मित्र/सहेली समिर/समिरा दुबे, 5, 'स्नेहप्रभा' समता नगर, अमरावती को मैराथन दौड़ प्रतियोगिता में प्रथम स्थान प्राप्त करने के उपलक्ष्य में अभिनंदन करने हेतु पत्र लिखता/लिखती है।

Appears in 1 question paper
Chapter: [0.01] पत्रलेखन
Concept: पत्रलेखन

निम्नलिखित पठित गदयांश पढ़कर दी गई सूचनाओं के अनुसार कृतियाँ कीजिए:

'एक बार एक बहुरूपिये ने साधु का रूप बनाया - सिर पर जटाएँ, नंगे शरीर पर भस्म, माथे पर त्रिपुंड, कमर में लँगोटी। उसके रूप में कहीं कोई कसर नहीं थी और यह संसारत्यागी साधु ही लगता था। उसने नगर से बाहर बड़े-से पेड़ के नीचे अपनी झोंपड़ी तैयार की, बगीचा लगाया और बैठकर तपस्या करने लगा। थीरे-धीरे सारे नगर में यह/समाचार फैलने लगा कि बाहर एक बहुत पहुँचे हुए महात्मा ने आकर डेरा लगाया है। लोग उसके दर्शनों को आने लगे और धीरे-धीरे चारों तरफ साधु का यश फैल गया। सारें दिन उसके यहाँ भीड़ लगी रहती थी। लोग कहते थे कि महात्मा जी के उपदेशों में जादू है और उनके आशीर्वाद से संसार के बड़े से बड़े कष्ट दूर हो जाते हैं। अपनी इस कीर्ति से साधु को कभी-कभी बड़ा आश्चर्य होता और मन-ही-मन वह अपनी सफलता पर मुसकराया करता।

उत्तर लिखिए:

(1) बहुरूपिये का साधु रूप ऐसा था: (2)

  1. माथे पर ______
  2. सिर पर ______
  3. नंगे शरीर पर ______
  4. कमर में ______

(2) (i) निम्नलिखित शब्दों के विलोमार्थक शब्द गद्यांश में से ढूँढ़कर लिखिए:  (1)

  1. महल × ______
  2. असफलता × ______

(ii) निम्नलिखित शब्दों के वचन बदलकर लिखिए: (1)

  1. डेरा - ______
  2. लँगोटी - ______

(3) 'हमें अपने व्यवसाय के प्रति ईमानदार होना चाहिए' 25 से 30 शब्दों में अपने विचार लिखिए।  (2)

Appears in 1 question paper
Chapter: [0.02] कलाकार
Concept: कलाकार

गद्य आकलन - प्रश्न निर्मिति:

विख्यात गणितज्ञ सी. वी. रमण ने छात्रावस्था में ही विज्ञान के क्षेत्र में अपनी प्रतिभा का सिक्का देश में ही नहीं विदेशों में भी जमा लिया था।

रमण का एक साथी छात्र ध्वनि के संबंध में कुछ प्रयोग कर रहा था। उसे कुछ कठिताइयाँ प्रतीत हुईं, संदेह हुए। वह अपने अध्यापक जोन्स साहब के पास गया परन्तु वह भी उसका संदेह निवारण न कर सके। रमण को पता चला तो उन्होंने उस समस्या का अध्ययन-मनन किया और इस संबंध में उस समय के प्रसिद्ध लॉर्ड रेले के निबंध पढ़े और उस समस्या का एक नया ही हल खोज निकाला। यह हल पहले हल से सरल और अच्छा था। लॉर्ड रेले को इस बात का पता चला तो उन्होंने रमण की प्रतिभा की भूरि-भूरि प्रशंसा की। अध्यापक जोन्स भी प्रसन्‍न हुए और उन्होंने रमण से इस प्रयोग के संबंध में लेख लिखने को कहा। रमण ने लेख लिखकर श्री जोन्स को दिया, पर जोन्स उसे जल्दी लौटा 'न सके। कारण संभवत: यह था कि वह उसे पूरी तरह आत्मसात न कर संके।

Appears in 1 question paper
Chapter: [0.02] गद्‍य आकलन (प्रश्न निर्मिति)
Concept: गद्‍य आकलन (प्रश्न निर्मिति)

निम्नलिखित पठित गद्यांश पढ़कर दी गई सूचनाओं के अनुसार कृतियाँ कीजिए:

धीरे-धीरे गाँववाले को खोए हुए आदमी के कई गुर्णो के बारे में पता 'वलने लगा। वह पशु-पश्षियों से बातें करता प्रतीतहोता। लगता था जैसे वह पशु-पक्षियों की भाषा जानता हो। यह आँधी, तूफान, चक्रवात आने, ओले पड़ने या टिड्डियों केहमले के बारे में गाँववालों को पहले ही आगाह कर देता । उसकी भविष्यवाणी के कारण गाँववाले मुसीबतों से बच जाते। जब'एक बार गाँव में सूखे की स्थिति उत्पन्न हो गई तो खोए हुए आदमी ने आकाश की ओर देखकर न जाने किस भाषा में किसदेवता से प्रार्थना की । कुछ ही समय बाद गाँव में मूसलाधार बारिश होने लगी। सूखी-प्यासी मिट्टी तृप्त हो गई। बच्चे-बड़े सभी इस झमाझम बारिश में भीगने का भरपूर आनंद लेने लगे। उस दिन से खोया हुआ आदमी गाँव में सबका चहेता हो गया।

(1) आकृति पूर्ण कीजिए:  (2)

खोए हुए आदमी के गुण
(i) ______ (ii) ______

(2) (i) गद्यांश में आए शब्द-युग्म दूँढकर लिखिए:  (1)

  1.  ______
  2. ______

(ii) निम्नलिखित शब्दों के लिए गद्यांश में आए हुए पर्यायवाची शब्द लिखिए:  (1)

  1. वर्षा - ______
  2. देहात - ______

(3) 'वाणी की मधुरता' विषय पर 25 से 30 शब्दों में अपने विचार लिखिए: (2)

Appears in 1 question paper
Chapter: [0.02] खोया हुआ आदमी
Concept: खोया हुआ आदमी

निम्नलिखित वाक्य का कालभेद पहचानिए:

कल क्या खाया था ?

Appears in 1 question paper
Chapter: [0.02] विकारी शब्‍द और उनके भेद
Concept: विकारी शब्‍द और उनके भेद

निम्नलिखित गद्यांश पढ़कर ऐसे चार प्रश्न तैयार कीजिए जिनके उत्तर गद्यांश में एक-एक वाक्य में हों:

'तविषा अपराध-बोध से भरी हुई थी। मांडवी दी से उसने अपना संशय बाँटा। चावल की टंकी में घुन हो रहे थे। उस सुबह उसने मारने के लिए डाबर की पारे की गोलियों की शीशी खोली थी चावलों में डालने के लिए । शीशी का ढक्कन मरोड़कर जैसे ही उसने ढक्कन खोलना चाहा, कुछ गोलियाँ छिटककर दूर जा गिरीं । गोलियाँ बटोर उसने टंकी में डाल दीथीं। फिर भी उसे शक है कि एकाध गोली ओने-कोने में छूट गई होगी।

Appears in 1 question paper
Chapter: [0.02] गद्‍य आकलन (प्रश्न निर्मिति)
Concept: गद्‍य आकलन (प्रश्न निर्मिति)
< prev  1 to 20 of 287  next > 
Advertisement Remove all ads
Share
Notifications

View all notifications


      Forgot password?
View in app×