वैज्ञानिक कारण लिखिए। शहाबादी फर्श के टूकड़े HCl में डालने पर जल्दी अदृश्य नही होते किंतु फर्श का चूर्ण जल्दी अदृश्य हो जाता है। - Science and Technology 1 [विज्ञान और प्रौद्योगिकी १]

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Short Note

वैज्ञानिक कारण लिखिए।

शहाबादी फर्श के टूकड़े HCl में डालने पर जल्दी अदृश्य नही होते किंतु फर्श का चूर्ण जल्दी अदृश्य हो जाता है।

Advertisement

Solution

  1. अभिक्रिया की दर अभिकारकों के कणों के आकार पर निर्भर होती है। कणों आकार जितना छोटा होगा अभिक्रिया की दर उतनी ही तीव्र होगी |
  2. शहाबादी फर्श की हाइड्रोक्लोरिक अम्ल के साथ अभिक्रिया में शाहाबादी फर्श के टुकड़े की अपेक्षा शहाबादी फर्श के चूर्ण आकार में छोटे होते हैं। इस कारण उतने ही वजन के फर्श के चूर्ण का हाइड्रोक्लोरिक अम्ल के साथ तीव्र गति से संयोग होता है तथा वह जल्दी अदृश्य हो जाता है। 
Concept: रासायनिक अभिक्रिया (Chemical Reaction)
  Is there an error in this question or solution?
Chapter 3: रासायनिक अभिक्रिया और समीकरण - स्वाध्याय [Page 45]

APPEARS IN

Balbharati Science and Technology 1 10th Standard SSC Maharashtra State Board [विज्ञान और प्रौद्योगिकी १ १० वीं कक्षा]
Chapter 3 रासायनिक अभिक्रिया और समीकरण
स्वाध्याय | Q ४. आ. | Page 45
Share
Notifications



      Forgot password?
Use app×