Advertisement Remove all ads

‘संग्रहालय संस्कृति और इतिहास के परिचायक होते हैं’ विषय पर अपने विचार लिखिए। - Hindi [हिंदी]

Answer in Brief

‘संग्रहालय संस्कृति और इतिहास के परिचायक होते हैं’ विषय पर अपने विचार लिखिए।

Advertisement Remove all ads

Solution

यह समझना भूल है कि हम अपने अतीत की एकदम उपेक्षा करके बड़े हो जाएँगे | अतीत ही वर्तमान को जन्म देता है | उसके दोष-गुण से वर्तमान प्रभावित रहता है | हम अपनी उन महान निधियों को नहीं भुला सकते जिन्होंने शताब्दियों तक मनुष्य को संयमी, सौंदर्य-प्रेमी और संवेदनशील बनाया है, जिन्होंने हमारे पूर्वजों के अंतर को धर्म-भीरु और बाहर को दृढ़ बनाया था | हमारे ग्रन्थ हमारे ऐतिहासिक भग्नावशेष संग्रहालय और हमारी कलात्मक कृतियाँ हमें महान और उदार बनाती हैं तथा हमारी संस्कृति और इतिहास की परिचायक होती हैं | उनकी और जितना भी ध्यान दिया जा सके उतना ही अच्छा होगा | युग-युग से मनुष्य को मनुष्योचित गुणों के प्रति निष्ठावान बनाने वाली इन वस्तुओं के संरक्षण और प्रचार की व्यवस्था को भुलाना एकदम वांछनीय नहीं हैं | जो लोग इस प्रकार तर्क करते हैं कि जिन देशों में ये वस्तुएँ नहीं है, वे भी तो कम उन्नत नहीं है, वे दया के पात्र हैं | उन देशों के निवासियों के हृदय में पैठने की शक्ति उनमें नहीं है |

Concept: रचना विभाग (१० वीं कक्षा)
  Is there an error in this question or solution?
Advertisement Remove all ads

APPEARS IN

Balbharati हिंदी - कुमारभारती १० वीं कक्षा Hindi - Kumarbharati 10th Standard SSC Maharashtra State Board
Chapter 2.1 टॉल्स्टॉय के घर के दर्शन
अभिव्यक्‍ति | Q १. | Page 107
Advertisement Remove all ads
Advertisement Remove all ads
Share
Notifications

View all notifications


      Forgot password?
View in app×