शंकर जैसे लड़के या उमा जैसी लड़की - समाज को कैसे व्यक्तित्व की ज़रूरत है? तर्क सहित उत्तर दीजिए। - Hindi Course - A

Advertisements
Advertisements
Short Note

शंकर जैसे लड़के या उमा जैसी लड़की - समाज को कैसे व्यक्तित्व की ज़रूरत है? तर्क सहित उत्तर दीजिए।

Advertisements

Solution

उमा जैसी लड़की ही समाज के लिए सही व्यक्तित्व है। वह निडर है, साहसी भी है। जहाँ एक ओर माता-पिता का सम्मान रखते हुए वह गोपाल प्रसाद जी व उनके लड़के शंकर के सम्मुख खड़ी हो जाती है, उनके कहने पर वह गीत भी गाती है तो दूसरी तरफ़ निर्भयता पूर्वक गोपाल जी को उनकी कमियों का एहसास कराते हुए तनिक भी नहीं हिचकती। उसमें आत्मसम्मान की भावना है। उसी आत्मसम्मान के लिए वह अपना मुँह भी खोलती है।

Concept: गद्य (Prose) (Class 9 A)
  Is there an error in this question or solution?
Chapter 3: रीढ़ की हड्डी - प्रश्न अभ्यास [Page 41]

APPEARS IN

NCERT Class 9 Hindi - Kritika Part 1
Chapter 3 रीढ़ की हड्डी
प्रश्न अभ्यास | Q 6 | Page 41

RELATED QUESTIONS

'रीढ़ की हड्डी' शीर्षक की सार्थकता स्पष्ट कीजिए।


समाज में महिलाओं को उचित गरिमा दिलाने हेतु आप कौन-कौन से प्रयास कर सकते हैं?


'भूख मीठी कि भोजन मीठा' से क्या अभिप्राय है?


माटी वाली का कंटर दूसरे कंटरों से किस तरह भिन्न होता था और क्यों?


‘बच्चन जी समय पालन के प्रति पाबंद थे।’ पठित पाठ में वर्णित घटना के आधार पर स्पष्ट कीजिए। इससे आपको किन मूल्यों को अपनाने की प्रेरणा मिलती है?


हीरा-मोती को वाणी की कमी क्यों अखर रही थी?


महादेवी और सुभद्रा कुमारी की मुलाकात और मित्रता का वर्णने अपने शब्दों में कीजिए।


लेखिका ने अपनी माँ के व्यक्तित्व की किन विशेषताओं का उल्लेख किया है?


मूक प्राणी मनुष्य से कम संवेदनशील नहीं होते। पाठ के आधार पर स्पष्ट कीजिए।


गुरुदेव कैसे दर्शनार्थियों से डरते थे और क्यों ?


Share
Notifications



      Forgot password?
Use app×