Advertisement Remove all ads

लेखक अपने जूते को अच्छा नहीं मानता वह अच्छा दिखता है, क्यों? - Hindi Course - A

Advertisement Remove all ads
Advertisement Remove all ads
Short Note

प्रेमचंद का जूता फटने के प्रति लेखक ने क्या-क्या आशंका प्रकट की है?

Advertisement Remove all ads

Solution

प्रेमचंद का जूता फटने के प्रति लेखक ने दो आशंकाएँ प्रकट की हैं-

  • बनिए के तगादे से बचने के लिए मील-दो मील का चक्कर प्रतिदिन लगाकर घर पहुँचना।
  • सदियों से परत दर परत जमी किसी चीज़ पर ढोकर मार-मारकर जूता फाड़ लेना।
Concept: गद्य (Prose) (Class 9 A)
  Is there an error in this question or solution?
Advertisement Remove all ads

APPEARS IN

NCERT Class 9 Hindi - Kshitij Part 1
Chapter 6 प्रेमचंद के फटे जूते
अतिरिक्त प्रश्न | Q 8
Advertisement Remove all ads
Share
Notifications

View all notifications


      Forgot password?
View in app×