Advertisement Remove all ads

निम्नलिखित अभिक्रिया का अपचयोपचय अभिक्रिया के रूप में औचित्य स्थापित करने का प्रयास कीजिए- CuO(s)+HX2(g)+Cu(s)+HX2O(g) - Chemistry (रसायन विज्ञान)

Advertisement Remove all ads
Advertisement Remove all ads
Answer in Brief

निम्नलिखित अभिक्रिया का अपचयोपचय अभिक्रिया के रूप में औचित्य स्थापित करने का प्रयास कीजिए-

\[\ce{CuO(s) + H2(g) + Cu(s) + H2O(g)}\]

Advertisement Remove all ads

Solution

\[\ce{\overset{+2}{Cu}\overset{-2}{O}(s) + \overset{0}{H2}(g) -> \overset{0}{Cu}(s) + \overset{+1}{H2}\overset{-2}{O}(g)}\]

इस अभिक्रिया में, Cu की ऑक्सीकरण अवस्था +2 (CuO में) से घटकर शून्य (Cu में) हो जाती है जबकि H की ऑक्सीकरण अवस्था शून्य (H2 में) से बढ़कर +1 (H2O में) हो जाती है। इसलिए अभिक्रिया में CuO का अपचयन तथा H का ऑक्सीकरण हो रहा है। अतः यह एक अपचयोपचय अभिक्रिया है।

Concept: ऑक्सीकरण-संख्या - अपचयोपचय अभिक्रियाओं का संतुलन
  Is there an error in this question or solution?
Advertisement Remove all ads

APPEARS IN

NCERT Chemistry Part 1 and 2 Class 11 [रसायन विज्ञान भाग १ व २ कक्षा ११ वीं]
Chapter 8 अपचयोपचय अभिक्रियाएँ
अभ्यास | Q 8.3 (क) | Page 277
Advertisement Remove all ads
Share
Notifications

View all notifications


      Forgot password?
View in app×