Advertisement Remove all ads

निम्नलिखित का भाव स्पष्ट कीजिए-−यों जलद-यान में विचर-विचरथा इंद्र खेलता इंद्रजाल। - Hindi Course - B

Short Note

निम्नलिखित का भाव स्पष्ट कीजिए-
−यों जलद-यान में विचर-विचर
था इंद्र खेलता इंद्रजाल।

Advertisement Remove all ads

Solution

कभी गहरे बादलकभी तेज़ वर्षा और तालाबों से उठता धुआँ − यहाँ वर्षा ऋतु में पल-पल प्रकृति वेश बदल जाता है। यह सब दृश्य देखकर ऐसा प्रतीत होता है कि जैसे बादलों के विमान में विराजमान राजा इन्द्र विभिन्न प्रकार के जादुई खेल-खेल रहे हों।

Concept: पद्य (Poetry) (Class 10 B)
  Is there an error in this question or solution?
Advertisement Remove all ads

APPEARS IN

NCERT Hindi - Sparsh Part 2 Class 10 CBSE
Chapter 1.5 पर्वत प्रदेश में पावस
प्रश्न-अभ्यास (ख) | Q 2 | Page 28
Advertisement Remove all ads
Advertisement Remove all ads
Share
Notifications

View all notifications


      Forgot password?
View in app×