निम्नलिखित का आशय स्पष्ट कीजिए −इस पेशे में आमतौर पर स्याह को सफ़ेद और सफ़ेद को स्याह करना होता था। - Hindi Course - B

Advertisements
Advertisements
Short Note

निम्नलिखित का आशय स्पष्ट कीजिए 
इस पेशे में आमतौर पर स्याह को सफ़ेद और सफ़ेद को स्याह करना होता था।

Advertisements

Solution

एक वकील के पेशे में उसका काम गलत को सही और सही को गलत सिद्ध करना होता है। इसमें पूरी सच्चाई से काम नहीं होता। इसलिए ही गाँधीजी ने इसको छोड़ा था।

Concept: गद्य (Prose) (Class 9 B)
  Is there an error in this question or solution?
Chapter 6: स्वामी आनंद - शक्र तारे के समान - लिखित (ग) [Page 63]

APPEARS IN

NCERT Class 9 Hindi - Sparsh Part 1
Chapter 6 स्वामी आनंद - शक्र तारे के समान
लिखित (ग) | Q 2 | Page 63

RELATED QUESTIONS

'मनुष्य का अनुमान और भावी योजनाएँ कभी-कभी कितनी मिथ्या और उल्टी निकलती हैं' −का आशय स्पष्ट कीजिए।


‘कल्लू कुम्हार की उनाकोटी’ पाठ के आधार पर गंगावतरण की कथा का उल्लेख कीजिए और बताइए कि ऐसे स्थलों की यात्रा करते समय हमें किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?


हामिद खाँ ने अपने व्यवहार से भारतीय संस्कृति की किस विशेषता की यादें ताज़ी कर दीं, और कैसे?


"इनसे आप लोग त्याग और हिम्मत सीखें" −गांधीजी ने यह किसके लिए और किस संदर्भ में कहा?


व्यक्ति की पहचान उसकी पोशाक से होती है। इस विषय पर कक्षा में परिचर्चा कीजिए।


बुढ़िया को रोते देखकर लेखक चाहकर भी क्या न कर सका?


निम्नलिखित प्रश्न का उत्तर एक-दो पंक्तियों में दीजिए 
धर्म के स्पष्ट चिह्न क्या हैं?


निम्नलिखित प्रश्न के उत्तर एक-दो पंक्तियों में दीजिए 

रामन् के पिता ने उनमें किन विषयों की सशक्त नींव डाली?


निम्नलिखित प्रश्न के उत्तर एक-दो पंक्तियों में दीजिए 

सरकारी नौकरी छोड़ने के पीछे रामन् की क्या भावना थी?


चालाक लोग सामान्य आदमियों से किस तरह फायदा उठा लेते हैं? पठित पाठ के आधार पर लिखिए।


Share
Notifications



      Forgot password?
Use app×