निम्नलिखित का आशय स्पष्ट कीजिए − एवरेस्ट जैसे महान अभियान में खतरों को और कभी-कभी तो मृत्यु भी आदमी को सहज भाव से स्वीकार करनी चाहिए। - Hindi Course - B

Advertisements
Advertisements
Short Note

निम्नलिखित का आशय स्पष्ट कीजिए 

एवरेस्ट जैसे महान अभियान में खतरों को और कभी-कभी तो मृत्यु भी आदमी को सहज भाव से स्वीकार करनी चाहिए।

Advertisements

Solution

यह कथन अभियान दल के नेता कर्नल खुल्लर का है। उन्होंने शेरपा कुली की मृत्यु के समाचार के बाद कहा था। उन्होंने सदस्यों के उत्साहवर्धन करते हुए अभियान के दौरान होने वाली दुर्घटनाओं को वास्तविकता से परिचित करना चाहा। एवरेस्ट की चढ़ाई कोई आसान काम नहीं हैयह जोखिम भरा अभियान होता है। यहाँ इतने खतरे हैं कि कभी-कभी मृत्यु भी हो सकती है। इसके लिए तैयार रहना चाहिए विचलित नहीं होना चाहिए।

Concept: गद्य (Prose) (Class 9 B)
  Is there an error in this question or solution?
Chapter 2: बचेंद्री पाल - एवरेस्ट : मेरी शिखर यात्रा - लिखित (ग) [Page 25]

APPEARS IN

NCERT Class 9 Hindi - Sparsh Part 1
Chapter 2 बचेंद्री पाल - एवरेस्ट : मेरी शिखर यात्रा
लिखित (ग) | Q 1 | Page 25

RELATED QUESTIONS

कैलाश नगर के ज़िलाधिकारी ने आलू की खेती के विषय में लेखक को क्या जानकारी दी?


निम्नलिखित प्रश्न का उत्तर (25-30 शब्दों में) लिखिए −

मनुष्य के जीवन में पोशाक का क्या महत्व है?


निम्नलिखित प्रश्न का उत्तर (25-30 शब्दों में) लिखिए −

लड़के की मृत्यु के दूसरे ही दिन बुढ़िया खरबूज़े बेचने क्यों चल पड़ी?


भगवाना के इलाज और उसकी विदाई के बाद घर की आर्थिक स्थिति पर क्या प्रभाव पड़ा?


निम्नलिखित शब्दों में उपयुक्त उपसर्ग लगाइए 

जैसे : पुत्र − सुपुत्र

वास व्यवस्थित कूल गति रोहण रक्षित


निम्नलिखित प्रश्न का उत्तर (25-30) शब्दों में लिखिए 
महादेव भाई की साहित्यिक देन क्या है?


भारत के मानचित्र पर निम्न स्थानों को दर्शाएँ-अहमदाबाद, जलियाँवाला बाग (अमृतसर), कालापानी (अंडमान), दिल्ली, शिमला, बिहार, उत्तर प्रदेश।


रेखांकित शब्द के विलोम शब्द का प्रयोग करते हुए रिक्त स्थान की पूर्ति कीजिए 

मोहन के पिता मन से सशक्त होते हुए भी तन से __________ हैं।


निम्नलिखित का आशय स्पष्ट कीजिए 
यहाँ है बुद्धि पर परदा डालकर पहले ईश्वर और आत्मा का स्थान अपने लिए लेना, और फिर धर्म, ईमान, ईश्वर और आत्मा के नाम पर अपनी स्वार्थ-सिद्धि के लिए लोगों को लड़ाना-भिड़ाना।


लेखक चलते-पुरज़े लोगों को यथार्थ दोष क्यों मानता है?


Share
Notifications



      Forgot password?
Use app×