Advertisement Remove all ads

निम्‍नलिखित काव्य पंक्‍तियों का केंद्रीय भाव स्‍पष्‍ट कीजिए : चलतीं साथ पटरियाँ रेल की फिर भी मौन । - Hindi (Second/Third Language) [हिंदी (दूसरी/तीसरी भाषा)]

One Line Answer

निम्‍नलिखित काव्य पंक्‍तियों का केंद्रीय भाव स्‍पष्‍ट कीजिए :

चलतीं साथ
पटरियाँ रेल की
फिर भी मौन।

Advertisement Remove all ads

Solution

रेल की पटरियाँ अनंत काल से साथ चल रही हैं, परंतु वे सदा मौन रहती हैं। एक-दूसरे से कभी बात नहीं करतीं।

Concept: पूरक पठन (10th Standard)
  Is there an error in this question or solution?
Advertisement Remove all ads

APPEARS IN

Balbharati Hindi - Lokbharati 10th Standard SSC Maharashtra State Board [हिंदी - लोकभारती १० वीं कक्षा]
Chapter 1.04 मन (पूरक पठन)
स्‍वाध्याय | Q (४) १. | Page 17
Advertisement Remove all ads
Advertisement Remove all ads
Share
Notifications

View all notifications


      Forgot password?
View in app×