Advertisement Remove all ads

नीचे लिखी पंक्ति का भाव स्पष्ट कीजिए :जाकी अँग-अँग बास समानी - Hindi Course - B

Advertisement Remove all ads
Advertisement Remove all ads
Short Note

नीचे लिखी पंक्ति का भाव स्पष्ट कीजिए :
जाकी अँग-अँग बास समानी

Advertisement Remove all ads

Solution

कवि के अंग-अंग मे राम-नाम की सुगंध व्याप्त हो गई है। जैसे चंदन को पानी के साथ रगड़ने पर सुंगधित लेप बनती है, उसी प्रकार राम-नाम के लेप की सुंगधि उसके अंग-अंग में समा गई है कवि इसकी अनुभूति करता है।

Concept: पद्य (Poetry) (Class 9 B)
  Is there an error in this question or solution?
Advertisement Remove all ads

APPEARS IN

NCERT Class 9 Hindi - Sparsh Part 1
Chapter 7 रैदास - अब कैसे छूटे राम नाम … ऐसी लाल तुझ बिनु …
प्रश्न अभ्यास | Q 2.1 | Page 75
Advertisement Remove all ads
Share
Notifications

View all notifications


      Forgot password?
View in app×