मीरा भक्तिकाल की प्रसिद्ध कवयित्री थीं। इस काल के दूसरे कवियों के नामों की सूची बनाइए तथा उनकी एक-एक रचना का नाम लिखिए। - Hindi (हिंदी)

Advertisements
Advertisements
Short Note

मीरा भक्तिकाल की प्रसिद्ध कवयित्री थीं। इस काल के दूसरे कवियों के नामों की सूची बनाइए तथा उनकी एक-एक रचना का नाम लिखिए।

Advertisements

Solution

 

कवि

-

रचना

(i)

कबीर

-

कबीर ग्रंथावली

(ii)

तुलसीदास

-

राम चरित मानस

(iii)

सूरदास

-

सूरसागर

(iv)

जायसी

-

पदमावत

Concept: पद्य (Poetry) (Class 7)
  Is there an error in this question or solution?
Chapter 16: भोर और बरखा - कविता से आगे [Page 120]

APPEARS IN

NCERT Class 7 Hindi - Vasant Part 2
Chapter 16 भोर और बरखा
कविता से आगे | Q 1 | Page 120

RELATED QUESTIONS

बहुविकल्पी प्रश्न

इस कविता के रचयिता कौन हैं?


बार-बार बोलो और नीचे दिए गए शब्द से वाक्य बनाओ।
फल - पल

सही शब्द चुनकर वाक्य पूरा करो
बरसने लगा ________ यह पानी।


'सुख-स्वप्नों के स्वर गूँजेंगे।'

इसमें 'स' अक्षर बार-बार आया है।

तुम भी नीचे लिखे वर्णों से वाक्य बनाओ। ध्यान रखो कि उस वर्ण से शुरू होने वाले तीन शब्द तुम्हारे वाक्य में हों।

(क) क __________________

(ख) त __________________

(ग) द __________________


पहली कठपुतली ने स्वयं कहा कि-'ये धागे/क्यों हैं मेरे पीछे-आगे?/इन्हें तोड़ दो;/मुझे मेरे पाँवों पर छोड़ दो।'-तो फिर वह चिंतित क्यों हुई कि-'ये कैसी इच्छा/मेरे मन में जगी?' नीचे दिए वाक्यों की सहायता से अपने विचार व्यक्त कीजिए-

•उसे दूसरी कठपुतलियों की ज़िम्मेदारी महसूस होने लगी।

•उसे शीघ्र स्वतंत्र होने की चिंता होने लगी।

•वह स्वतंत्रता की इच्छा को साकार करने और स्वतंत्रता को हमेशा बनाए रखने के उपाय सोचने लगी।

•वह डर गई, क्योंकि उसकी उम्र कम थी।


इस कविता में किस वातावरण का चित्रण है?


रहीम ने क्वार के मास में गरजने वाले बादलों की तुलना ऐसे निर्धन व्यक्तियों से क्यों की है जो पहले कभी धनी थे और बीती बातों को बताकर दूसरों को प्रभावित करना चाहते हैं? दोहे के आधार पर आप सावन के बरसने और गरजने वाले बादलों के विषय में क्या कहना चाहेंगे?


बहुविकल्पी प्रश्न

साँचा मीत किसे कहा गया है?


बहुविकल्पी प्रश्न

मीरा को किसके आने की भनक मिली।


पाठ के आधार पर सावन की विशेषताएँ लिखिए।


Share
Notifications



      Forgot password?
Use app×