मक्खनपुर पढ़ने जाने वाली बच्चों की टोली रास्ते में पड़ने वाले कुएँ में ढेला क्यों फेंकती थी? - Hindi Course - B

Advertisements
Advertisements
Short Note

मक्खनपुर पढ़ने जाने वाली बच्चों की टोली रास्ते में पड़ने वाले कुएँ में ढेला क्यों फेंकती थी?

Advertisements

Solution

बच्चे स्वभाव से नटखट होते हैं। मक्खनपुर पढ़ने जाने के रास्ते में एक सूखा कुआँ था। उसमें एक साँप गिर गया था। अपने नटखट स्वभाव के कारण साँप को तंग करने और उसकी फुसकार सुनने के लिए बच्चे कुएँ में ढेले फेंका करते थे। उसकी आवाज़ सुनने के बाद अपनी आवाज़ की प्रतिध्वनि सुनने की इच्छा उनके मन में रहती थी।

Concept: गद्य (Prose) (Class 9 B)
  Is there an error in this question or solution?
Chapter 2: स्मृति - बोध प्रश्न [Page 17]

APPEARS IN

NCERT Class 9 Hindi - Sanchayan Part 1
Chapter 2 स्मृति
बोध प्रश्न | Q 2 | Page 17

RELATED QUESTIONS

त्रिपुरा में आदिवासियों के मुख्य असंतोष की वजह पर प्रकाश डालिए।


"यह धर्मयात्रा है। चलकर पूरी करुँगा।गांधी जी के इस क्थन द्वारा उनके किस चारित्रिक गुण का परिचय प्राप्त होता है।


निम्नलिखित प्रश्न का उत्तर (25-30 शब्दों में) लिखिए −

भगवाना अपने परिवार का निर्वाह कैसे करता था?


निम्नलिखित प्रश्न का उत्तर (25-30 शब्दों में) लिखिए −

बुढ़िया के दु:ख को देखकर लेखक को अपने पड़ोस की संभ्रांत महिला की याद क्यों आई?


निम्नलिखित का आशय स्पष्ट कीजिए 

शोक करने, गम मनाने के लिए भी सहूलियत चाहिए और... दु:खी होने का भी एक अधिकार होता है।


निम्नलिखित प्रश्न का उत्तर (50-60 शब्दों में) लिखिए −

एवरेस्ट पर चढ़ने के लिए कुल कितने कैंप बनाए गए? उनका वर्णन कीजिए।


निम्नलिखित का आशय स्पष्ट कीजिए 

एवरेस्ट जैसे महान अभियान में खतरों को और कभी-कभी तो मृत्यु भी आदमी को सहज भाव से स्वीकार करनी चाहिए।


निम्नलिखित प्रश्न का उत्तर (25-30) शब्दों में लिखिए 
गांधीजी ने महादेव को अपना वारिस कब कहा था?


निम्नलिखित प्रश्न का उत्तर (25-30) शब्दों में लिखिए 
महादेव भाई की अकाल मृत्यु का कारण क्या था?


भारत के किन-किन वैज्ञानिकों को नोबेल पुरस्कार मिला है? पता लगाइए और लिखिए।


Share
Notifications



      Forgot password?
Use app×