महादेव भाई अपना परिचय ‘पीर-बावर्ची-भिश्ती-खर’ के रूप में देते थे। - Hindi Course - B

Advertisements
Advertisements
One Line Answer

महादेव भाई अपना परिचय ‘पीर-बावर्ची-भिश्ती-खर’ के रूप में देते थे।

Advertisements

Solution

महादेव भाई अपना परिचय ‘पीर-बावर्ची-भिश्ती-खर’ के रूप में दिया करते थे।

Concept: गद्य (Prose) (Class 9 B)
  Is there an error in this question or solution?
Chapter 6: स्वामी आनंद - शक्र तारे के समान - अतिरिक्त प्रश्न

APPEARS IN

NCERT Class 9 Hindi - Sparsh Part 1
Chapter 6 स्वामी आनंद - शक्र तारे के समान
अतिरिक्त प्रश्न | Q 1

RELATED QUESTIONS

गिलहरी के घायल बच्चे का उपचार किस प्रकार किया गया?


लेखक को कौन-सी पुस्तक समझ में नहीं आई और किसे पुस्तक ने उसे रोमांचित कर दिया?


आज समाज में हामिद जैसों की आवश्यकता है। इससे आप कितना सहमत हैं और क्यों?


अपनी किन चारित्रिक विशेषताओं और किन मानवीय मूल्यों के कारण गांधी जी देशभर में लोकप्रिय हो गए थे?


निम्नलिखित प्रश्न का उत्तर एक-दो पंक्तियों में दीजिए 

हिमस्खलन से कितने लोगों की मृत्यु हुई और कितने घायल हुए?


निम्नलिखित प्रश्न का उत्तर (50-60 शब्दों में) लिखिए −

चढ़ाई के समय एवरेस्ट की चोटी की स्थिति कैसी थी?


एवरेस्ट अभियान दल कब रवाना हुआ? उससे पहले अग्रिम दल क्यों भेजा गया?


शेरपा कुली की मृत्यु कैसे हुई थी?


पाठ में निम्नलिखित विशिष्ट भाषा प्रयोग आए हैं। सामान्य शब्दों में इनका आशय स्पष्ट कीजिए −

घंटों खोए रहते, स्वाभाविक रुझान बनाए रखना, अच्छा-खासा काम किया, हिम्मत का काम था, सटीक जानकारी, काफ़ी ऊँचे अंक हासिल किए, कड़ी मेहनत के बाद खड़ा किया था, मोटी तनख्वाह


रामन् द्वारा खोजे गए रामन् प्रभाव के कारण उनकी प्रसिधि और सम्मान पर क्या असर पड़ा? पठित पाठ के आलोक में स्पष्ट कीजिए।


Share
Notifications



      Forgot password?
Use app×