लेखक ने एस्ट्रोनॉट्स का उल्लेख किस संदर्भ में किया है? - Hindi Course - B

Advertisements
Advertisements
One Line Answer

लेखक ने एस्ट्रोनॉट्स का उल्लेख किस संदर्भ में किया है?

Advertisements

Solution

लेखक ने एस्ट्रोनॉट्स का उल्लेख घर आए अतिथि के संदर्भ में किया है। लेखक अतिथि को यह बताना चाहता है कि लाखों मील लंबी यात्रा करने बाद एस्ट्रानॉट्स भी चाँद पर इतने समय नहीं रुके थे जितने समय से अतिथि उसके घर रुका हुआ है।

Concept: गद्य (Prose) (Class 9 B)
  Is there an error in this question or solution?
Chapter 3: शरद जोशी - तुम कब जाओगे, अतिथि - अतिरिक्त प्रश्न

APPEARS IN

NCERT Class 9 Hindi - Sparsh Part 1
Chapter 3 शरद जोशी - तुम कब जाओगे, अतिथि
अतिरिक्त प्रश्न | Q 3

RELATED QUESTIONS

लेखक पर बिजली-सी कब गिर पड़ी?


'काश मैं आपके मुल्क में आकर यह सब अपनी आँखों से देख सकता।' हामिद ने ऐसा क्यों कहा?


निम्नलिखित का आशय स्पष्ट कीजिए 

जैसे वायु की लहरें कटी हुई पतंग को सहसा भूमि पर नहीं गिर जाने देतीं उसी तरह खास परिस्थितियों में हमारी पोशाक हमें झुक सकने से रोके रहती है।


निम्नलिखित प्रश्न का उत्तर (50-60 शब्दों में) लिखिए −

एवरेस्ट पर चढ़ने के लिए कुल कितने कैंप बनाए गए? उनका वर्णन कीजिए।


उदाहरण के अनुसार वाक्य बदलिए-
उदाहरण : गांधी जी ने महादेव भाई को अपना वारिस कहा था।
गांधी जी महादेव भाई को अपना वारिस कहा करते थे।

  1. महादेव भाई अपना परिचय ‘पीर-बावर्ची-भिश्ती-खर’ के रूप में देते थे।
  2. पीड़ितों के दल-के-दल गामदेवी के मणिभवन पर उमड़ते रहते थे।
  3. दोनों साप्ताहिक अहमदाबाद से निकलते थे।
  4. देश-विदेश के समाचार-पत्र गांधी जी की गतिविधियों पर टीका-टिप्पणी करते थे।
  5. गांधी जी के पत्र हमेशा महादेव की लिखावट में जाते थे।

गांधी जी ने महादेव भाई को अपने उत्तराधिकारी का पद कब सौंपा?


लोपसांग ने लेखिका की जान किस तरह से बचाई?


निम्नलिखित प्रश्न का उत्तर (25-30 शब्दों में) लिखिए −

वाद्ययंत्रों पर की गई खोजों से रामन् ने कौन-सी भ्रांति तोड़ने की कोशिश की?


रेखांकित शब्द के विलोम शब्द का प्रयोग करते हुए रिक्त स्थान की पूर्ति कीजिए 

अस्पताल के अस्थायी कर्मचारियों को ______ रुप से नौकरी दे दी गई है।


निम्नलिखित का आशय स्पष्ट कीजिए 
यहाँ है बुद्धि पर परदा डालकर पहले ईश्वर और आत्मा का स्थान अपने लिए लेना, और फिर धर्म, ईमान, ईश्वर और आत्मा के नाम पर अपनी स्वार्थ-सिद्धि के लिए लोगों को लड़ाना-भिड़ाना।


Share
Notifications



      Forgot password?
Use app×