Advertisement Remove all ads

जैव क्षमता की परिभाषा दें और इसका महत्त्व बताएं। - Biology (जीव विज्ञान)

Advertisement Remove all ads
Advertisement Remove all ads
Advertisement Remove all ads
Short Note

जैव क्षमता की परिभाषा दें और इसका महत्त्व बताएं।

Advertisement Remove all ads

Solution

जैव क्षमता। अन्त:श्वास आरक्षित वायु (Inspiratory Reserve Air Volume, IRV), प्रवाही वायु (Tidal Air Volume, TV) तथा उच्छ्वास आरक्षित वायु (Expiratory Reserve Air Volume, ERV) का योग (IRV + TV + ERV - 3000 + 500 + 1100 = 4600 मिली) फेफड़ों की जैव क्षमता होती है। यह वायु की वह कुल मात्रा होती है जिसे हम पहले पूरी चेष्टा द्वारा फेफड़ों में भरकर पूरी चेष्टा द्वारा शरीर से बाहर निकाल सकते हैं। जिस व्यक्ति की जैव क्षमता जितनी अधिक होती है, उसे शरीर की जैविक क्रियाओं के लिए उतनी ही अधिक ऊर्जा प्राप्त होती है। खिलाड़ियों, पर्वतारोही, तैराक आदि की जैव क्षमता अधिक होती है। युवक की जैव क्षमता प्रौढ़ की अपेक्षा अधिक होती है। पुरुषों की जैव क्षमता स्त्रियों की अपेक्षा अधिक होती है। यह उनकी कार्य क्षमता को प्रभावित करती है।

Concept: श्वसन और गैसों का विनिमय
  Is there an error in this question or solution?

APPEARS IN

NCERT Biology Class 11 [जीव विज्ञान ११ वीं कक्षा]
Chapter 17 श्वसन और गैसों का विनिमय
अभ्यास | Q 1. | Page 278
Advertisement Remove all ads
Share
Notifications

View all notifications


      Forgot password?
View in app×