एक लकुटी और कामरिया पर कवि सब कुछ न्योछावर करने को क्यों तैयार है? - Hindi Course - A

Advertisements
Advertisements
Short Note

एक लकुटी और कामरिया पर कवि सब कुछ न्योछावर करने को क्यों तैयार है?

Advertisements

Solution

श्री कृष्ण रसखान जी के आराध्य देव हैं। उनके द्वारा डाले गए कंबल और पकड़ी हुई लाठी उनके लिए बहुत मूल्यवान है। श्री कृष्ण लाठी व कंबल डाले हुए ग्वाले के रुप में सुशोभित हो रहे हैं। जो कि संसार के समस्त सुखों को मात देने वाला है और उन्हें इस रुप में देखकर वह अपना सब कुछ न्योछावर करने को तैयार हैं। भगवान के द्वारा धारण की गई वस्तुओं का मूल्य भक्त के लिए परम सुखकारी होता है।

Concept: पद्य (Poetry) (Class 9 A)
  Is there an error in this question or solution?
Chapter 11: सवैये - प्रश्न अभ्यास [Page 102]

APPEARS IN

NCERT Class 9 Hindi - Kshitij Part 1
Chapter 11 सवैये
प्रश्न अभ्यास | Q 3 | Page 102

RELATED QUESTIONS

कवि का ब्रज के वन, बाग और तालाब को निहारने के पीछे क्या कारण हैं?


प्रस्तुत सवैयों में जिस प्रकार ब्रजभूमि के प्रति प्रेम अभिव्यक्त हुआ है, उसी तरह आप अपनी मातृभूमि के प्रति अपने मनोभावों को अभिव्यक्त कीजिए।


दिन-प्रतिदिन के जीवन में हर कोई बच्चों को काम पर जाते देख रहा/रही है, फिर भी किसी को कुछ अटपटा नहीं लगता। इस उदासीनता के क्या कारण हो सकते हैं?


भाव स्पष्ट कीजिए -
मृदुल वैभव की रखवाली-सी, कोकिल बोलो तो!


काव्य-सौंदर्य स्पष्ट कीजिए -
किस दावानल की ज्वालाएँ हैं दीखीं?


ज्ञान की आँधी का भक्त के जीवन पर क्या प्रभाव पड़ता है?


‘सुबरन कलश’ किसका प्रतीक है? मनुष्य को इससे क्या शिक्षा ग्रहण करनी चाहिए?


बालश्रम अपराध है फिर भी बच्चों को काम करते हुए देखा जा सकता है। इसके क्या कारण हो सकते हैं, लिखिए।


भाव स्पष्ट कीजिए -

बाँकी चितवन उठा, नदी ठिठकी, घूँघट सरके।


‘मेघ आए’ कविता में बादलों को किसके समान बताया गया है?


Share
Notifications



      Forgot password?
Use app×