Maharashtra State BoardSSC (English Medium) 9th Standard
Advertisement Remove all ads

दिए गए शब्दों की सहायता से कहानी लेखन कीजिए। उसे उचित शीर्षक देकर प्राप्त होने वाली सीख भी लिखिए : अकाल, तालाब, जनसहायता, परिणाम - Hindi [हिंदी]

Answer in Brief

दिए गए शब्दों की सहायता से कहानी लेखन कीजिए। उसे उचित शीर्षक देकर प्राप्त होने वाली सीख भी लिखिए : अकाल, तालाब, जनसहायता, परिणाम

Advertisement Remove all ads

Solution

अकाल में तालाबों का महत्त्व

       रामपुर एक बहुत ही संपन्न गाँव था। गाँव के सभी लोग कड़ी मेहनत करते थे और उनकी मेहनत के बदले धरती सोना उगलती थी। एक वर्ष ऐसा आया, जब आसमान के बादल रूठ गए। फसलें वर्षा के बगैर मुरझा गईं। पानी की एक बूँद के लिए धरती तड़प गई। भयंकर सूखा पड़ा। वन्य और पालतू जीव पानी व चारे की कमी से मरने लगे। गाँववालों की हालत भी खराब होने लगी। किसी तरह कुछ दिन तो बीत गए, लेकिन पेट की आग और गले की प्यास के चलते उन्हें भी मौत नजदीक दिखाई देने लगी।

      गाँव के सभी लोगों ने एक साथ मिलकर इस चुनौतीपूर्ण स्थिति का सामना करने की ठानी। अगले ही दिन गाँव के सभी लोग एक बड़े से वट वृक्ष के नीचे इकट्ठा हुए। सभी पानी की किल्लत और अनाज की कमी के बारे में अपनी-अपनी राय रख रहे थे। चर्चा के दौरान एक बुजुर्ग ने कहा, ’हमारे गाँव की भाँति ही कुछ मील दूर माणिकपुर गाँव में भी सूखा पड़ा है, लेकिन वहाँ के लोग हमारी तरह परेशान नहीं हैं। उनके पास पीने के लिए भरपूर पानी है और वे अपने मवेशियों का भी सही तरीके से पालन-पोषण कर रहे हैं।“ यह बात गाँव के सभी लोगों को रहस्यात्मक लगी। बुजुर्ग की बात सुनकर सभी आश्चर्यचकित हो उठे। एक नवयुवक ने पूछा,’ आखिर यह कैसे हो सकता है? जब चारों ओर सूखा पड़ा है, तो उन्हें पानी कैसे मिल रहा है? कैसे वे खेती कर सकते हैं?“ इस पर बुजुर्ग ने कहा, ’इस रहस्य से पर्दा तो माणिकपुर गाँव के मुखिया ही उठा सकते हैं। हमें उनके पास जाकर मदद माँगनी चाहिए।“

       बुजुर्ग की बात से सभी गाँववाले सहमत थे। गाँववालों के एक दल ने बुजुर्ग व्यक्ति के नेतृत्व में माणिकपुर गाँव के मुखिया से मदद की गुहार लगाई। वहाँ पहुँचकर जब रामपुर के लोगों ने मुखिया से इस रहस्य के बारे में पूछा, तो उन्होंने बताया कि उनके गाँव में कई बड़े-बड़े तालाब हैं। इनका निर्माण गाँववालों की दूरदृष्टि की ही देन है। इन तालाबों में वर्षा के समय भरपूर मात्रा में पानी इकट्ठा हो जाता है। गत वर्ष हुई वर्षा का पानी इन तालाबों में एकत्रित था, जिसका उपयोग वे इस वर्ष सूखे में कर रहे हैं। माणिकपुर के मुखिया ने रामपुर को भी इस तरह के तालाबों का निर्माण करने की सलाह दी। इसके साथ ही सूखे के दौरान उन्हें पीने के लिए पानी मुहैया कराने और तालाब निर्माण में जरूरी सामग्री उपलब्ध कराने का आश्वासन भी दिया।

      रामपुर के लोग तालाबों का महत्त्व समझ चुके थे। जल्द ही गाँव के सभी लोग मिलकर तालाब की खुदाई में लग गए। जनसहायता से आने वाले कुछ ही महीनों में गाँव के आसपास चार बड़े तालाब खोद दिए गए। दिन-महीने बीतते गए और एक बार फिर वर्षा ऋतु का आगमन हुआ। रामपुर की धरती की प्यास बुझी और चारों नए तालाब पानी से लबालब होकर बहने लगे। इन तालाबों की खुदाई का परिणाम यह हुआ कि कई वर्षों के बाद एक बार फिर वर्षा नहीं हुई, लेकिन रामपुर में अकाल की स्थिति नहीं पैदा हुई।

सीख: दूरदृष्टि व परस्पर सहयोग से हर संकट का समाधान किया जा सकता है।

Concept: रचना विभाग (9th Standard)
  Is there an error in this question or solution?
Advertisement Remove all ads

APPEARS IN

Balbharati Hindi - Lokbharati 9th Standard Maharashtra State Board [हिंदी - लोकभारती ९ वीं कक्षा]
Chapter 2.02 जंगल (पूरक पठन)
पाठ के आँगन में | Q (३) | Page 46
Advertisement Remove all ads
Advertisement Remove all ads
Share
Notifications

View all notifications


      Forgot password?
View in app×