‘बसंत और सावन ॠतु जीवन के सौंदर्य का अनुभव कराते हैं ।’ इस कथन के आधार पर कविता 'सुनु रे सखिया' का रसास्वादन कीजिए । - Hindi

Advertisements
Advertisements
Answer in Brief

‘बसंत और सावन ॠतु जीवन के सौंदर्य का अनुभव कराते हैं ।’ इस कथन के आधार पर कविता 'सुनु रे सखिया' का रसास्वादन कीजिए ।

Advertisements

Solution

बसंत ऋतु आते ही हर तरफ फूल महकने लगते हैं। सरसों फूल जाती है और पूरी धरती हरियाली की चादर ओढ़कर खिल उठती है। कली-कली फूल बनकर मुस्कुराने लगती है। जिसके कारण तन-मन भी प्रसन्न हो जाते हैं। इस ऋतु के आने से खेत, वन, बाग-बगीचे सब हरे-भरे हो जाते हैं, इंद्रधनुष के विभिन्न रंगों के समान भाँति-भाँति के रंग-बिरंगे फूल खिल उठते हैं। भौरों के दल प्रसन्न होकर फूलों पर मँडराने लगते हैं। काजल लगी कजरारी आँखों में सपने मुस्कुराने लगते हैं और कंठ से मीठे गीत फूटने लगते हैं। बाग-बगीचों में बहार आने के साथ ही यौवन भी अँगड़ाइयाँ लेने लगता है। मधुर-मस्त बयार चलने के कारण सबके तन-मन प्रसन्न हो जाते हैं। इसी प्रकार मनभावन सावन आने पर बादल घिर-घिरकर गरजने लगते हैं, बिजली चमकने लगती है और पुरवाई चलने लगती है। मेघ रिमझिम-रिमझिम करके बरसते रहते हैं। मानो प्यार बरसाकर हृदय का तार-तार रँग रहे हों। हर व्यक्ति का मन गुलाब की तरह खिल जाता है। दादुर, मोर और पपीहे बोलकर सबके हृदय को प्रफुल्लित करते रहते हैं। अँधेरी रात में जुगनू जगमग-जगमग करते हुए इधर से उधर डोलकर सबका मन लुभाते हैं। लताएँ और बेलें सब फूल जाती हैं। डाल-डाल महक उठती है। सरोवर और सरिताएँ जल से भरकर उमड़ पड़ती हैं। सभी मनुष्यों के हृदय आनंदित हो उठते हैं।

Concept: लोकगीत
  Is there an error in this question or solution?
Chapter 12: सुनु रे सखिया, कजरी - रसास्वादन [Page 67]

APPEARS IN

Balbharati Hindi - Yuvakbharati 12th Standard HSC Maharashtra State Board
Chapter 12 सुनु रे सखिया, कजरी
रसास्वादन | Q 1 | Page 67
Share
Notifications



      Forgot password?
Use app×