‘या मुरली मुरलीधर की अधरा न धरी अधरा न धरौंगी’ का भाव स्पष्ट करते हुए बताइए कि गोपी ने ऐसा क्यों कहा होगा? - Hindi Course - A

Advertisements
Advertisements
Short Note

ब्रजभूमि के प्रति कवि का प्रेम किन-किन रूपों में अभिव्यक्त हुआ है?

Advertisements

Solution

रसखान जी अगले जन्म में ब्रज के गाँव में ग्वाले के रूप में जन्म लेना चाहते हैं ताकि वह वहाँ की गायों को चराते हुए श्री कृष्ण की जन्मभूमि में अपना जीवन व्यतीत कर सकें। श्री कृष्ण के लिए अपने प्रेम की अभिव्यक्ति करते हुए वे आगे व्यक्त करते हैं कि वे यदि पशु रुप में जन्म लें तो गाय बनकर ब्रज में चरना चाहते हैं ताकि वासुदेव की गायों के बीच घूमें व ब्रज का आनंद प्राप्त कर सकें और यदि वह पत्थर बने तो गोवर्धन पर्वत का ही अंश बनना चाहेंगे क्योंकि श्री कृष्ण ने इस पर्वत को अपनी अगुँली में धारण किया था। यदि उन्हें पक्षी बनने का सौभाग्य प्राप्त होगा तो वहाँ के कदम्ब के पेड़ों पर निवास करें ताकि श्री कृष्ण की खेल क्रीड़ा का आनंद उठा सकें। इन सब उपायों द्वारा वह श्री कृष्ण के प्रति अपने प्रेम की अभिव्यक्ति करना चाहते हैं।

Concept: पद्य (Poetry) (Class 9 A)
  Is there an error in this question or solution?
Chapter 11: सवैये - प्रश्न अभ्यास [Page 102]

APPEARS IN

NCERT Class 9 Hindi - Kshitij Part 1
Chapter 11 सवैये
प्रश्न अभ्यास | Q 1 | Page 102

RELATED QUESTIONS

'रस्सी' यहाँ किसके लिए प्रयुक्त हुआ है और वह कैसी है?


कवयित्री भवसागर पार होने के प्रति चिंतिते क्यों है?


गाँव को 'मरकत डिब्बे सा खुला' क्यों कहा गया है?


धरती रोमांचित-सी क्यों लगती है? यह रोमांच किस तरह प्रकट हो रहा है?


बीते के बराबर, ठिगना, मुरैठा आदि सामान्य बोलचाल के शब्द हैं, लेकिन कविता में इन्हीं से सौंदर्य उभरा है और कविता सहज बन पड़ी है। कविता में आए ऐसे ही अन्य शब्दों की सूची बनाइए।


कवि को ऐसा क्यों लगता है कि चना विवाह में जाने के लिए तैयार खड़ा है?


कविता में आए मानवीकरण तथा रूपक अलंकार के उदाहरण खोजकर लिखिए।


‘मेघ आए’ कविता में नदी किसका प्रतीक है? वह पूँघट सरकाकर किसे देख रही है?


भाव स्पष्ट कीजिए -

सभी दिशाओं में यमराज के आलीशान महल हैं
और वे सभी में एक साथ
अपनी दहकती आँखों सहित विराजते हैं


‘सभी दिशाओं में यमराज के आलीशान महल हैं’ ऐसा कहकर कवि ने किस ओर संकेत किया है?


Share
Notifications



      Forgot password?
Use app×