बहुविकल्पी प्रश्न“संसार पुस्तक है’ पाठ के लेखक कौन हैं? - Hindi (हिंदी)

Advertisements
Advertisements
MCQ

बहुविकल्पी प्रश्न
“संसार पुस्तक है’ पाठ के लेखक कौन हैं?

Options

  • प्रेमचंद

  • विनय महाजन

  •  पं० जवाहरलाल नेहरू

  • कृष्णा सोबती

Advertisements

Solution

विनय महाजन

Concept: गद्य (Prose) (Class 6)
  Is there an error in this question or solution?
Chapter 12: संसार पुस्तक है - अतिरिक्त प्रश्न

APPEARS IN

NCERT Class 6 Hindi - Vasant Part 1
Chapter 12 संसार पुस्तक है
अतिरिक्त प्रश्न | Q 1

RELATED QUESTIONS

लक्ष्मण ने शूर्पणखा के नाक-कान काट दिए। क्या ऐसा करना उचित था? अपने उत्तर का कारण बताओ।


विश्वामित्र और कैकेयी दोनों ही दशरथ को रघुकुल के वचन निभाने की प्रथा याद दिलाते हैं।

तुम अपने अनुभवों की मदद से बताओ कि क्या दिया हुआ वचन निभाना हमेशा संभव होता है?


इस संस्मरण में लेखिका किसकी चर्चा कर रही है?


पाठ में ऐसा क्यों कहा गया है कि अक्षरों के साथ एक नए युग की शुरूआत हुई?


बहुविकल्पीय प्रश्न

छोटू का परिवार कहाँ रहता था ?


स्कूल के काम से बचने के लिए मोहन ने कई बार पेट में ऐसे-ऐसे’ होने के बहाने बनाए। मान लो, एक बार उसे सचमुच पेट में दर्द हो गया और उसकी बातों पर लोगों ने विश्वास नहीं किया, तब मोहन पर क्या बीती होगी?


कहानी से व्यक्तियों या वस्तुओं के लिए प्रयुक्त हुए 'नहीं' अर्थ देने वाले शब्दों (नकारात्मक विशेषण) को छाँटकर लिखो। उनका उल्टा अर्थ देने वाले शब्द भी लिखो।


आजकल लड़के किसे घेरे रहते थे और क्यों?

जीवन जहाँ इठला-इठलाकर लहराता है, वहाँ भला आनंद के स्रोतों की कमी हो सकती है? उद्दाम जीवन के ही वहाँ के अनंत संख्यक गाने प्रतीक हैं। क्या तुम इस बात से सहमत हो? ‘बिदेसिया’ नामक लोकगीत से कोई कैसे आनंद प्राप्त कर सकता है। और वे कौन लोग हो सकते हैं जो इसे गाते-सुनते हैं? इसके बारे में जानकारी प्राप्त करके कक्षा में सबको बताओ।


‘बारहमासा’ गीत में साल के बारह महीनों का वर्णन होता है। नीचे विभिन्न अंकों से जुड़े कुछ शब्द दिए गए हैं। इन्हें पढ़ो और अनुमान लगाओ कि इनका क्या अर्थ है और वह अर्थ क्यों है? इसी सूची में तुम अपने मन से सोचकर भी कुछ शब्द जोड़ सकते हो-

  • इकतारा
  • सरपंच
  • चारपाई
  • सप्तर्षि
  • अठन्नी
  • तिराहा
  • दोपहर
  • छमाही
  • नवरात्र
  • चौराहा

Share
Notifications



      Forgot password?
Use app×