बहुविकल्पी प्रश्न जाल पड़ने पर पानी क्यों बह जाता है? - Hindi (हिंदी)

Advertisements
Advertisements
MCQ

बहुविकल्पी प्रश्न

जाल पड़ने पर पानी क्यों बह जाता है?

Options

  • आगे जाने के लिए

  • मछलियों का साथ निभाने के लिए

  • मछलियों से दूरी बनाने के लिए

  • मछलियों से सच्चा प्रेम न करने के लिए

Advertisements

Solution

मछलियों से सच्चा प्रेम न करने के लिए

Concept: पद्य (Poetry) (Class 7)
  Is there an error in this question or solution?
Chapter 11: रहीम के दोहे - अतिरिक्त प्रश्न

APPEARS IN

NCERT Class 7 Hindi - Vasant Part 2
Chapter 11 रहीम के दोहे
अतिरिक्त प्रश्न | Q 4

RELATED QUESTIONS

बहुविकल्पी प्रश्नोत्तर

कठपुतली को किस बात का दुख था?


कवि फूलों, गीतों और विद्या की खेती क्यों करना चाहता है?


इस पंक्ति से बारिश के बारे में क्या पता चलता है?

नमूना → सूरज की माँ ने उसको बुला लिया।
  ऐसा लगता है कि आसमान में सूरज नज़र नहीं आ रहा होगा।

काका किसी को ज़ोर-ज़ोर से डाँट रहे हैं।


'सुख-स्वप्नों के स्वर गूँजेंगे।'

इसमें 'स' अक्षर बार-बार आया है।

तुम भी नीचे लिखे वर्णों से वाक्य बनाओ। ध्यान रखो कि उस वर्ण से शुरू होने वाले तीन शब्द तुम्हारे वाक्य में हों।

(क) क __________________

(ख) त __________________

(ग) द __________________


बताओ तुम ये काम कैसे करोगे? शिक्षक से भी सहायता लो।

तारों की चाल बदल देना


बहुत से लोग पक्षी पालते हैं-
पक्षियों को पालना उचित है अथवा नहीं? अपने विचार लिखिए।


स्वर्ण-श्रृंखला और लाल किरण - सी में रेखांकित शब्द गुणवाचक विशेषण हैं। कविता से ढूँढ़कर इस प्रकार के तीन और उदाहरण लिखिए।


'बहुत दिन हुए / हमें अपने मन के छंद छुए।'- इस पंक्ति का अर्थ और क्या हो सकता है? अगले पृष्ठ पर दिए हुए वाक्यों की सहायता से सोचिए और अर्थ लिखिए-

(क) बहुत दिन हो गए, मन में कोई उमंग नहीं आई।

(ख) बहुत दिन हो गए, मन के भीतर कविता-सी कोई बात नहीं उठी, जिसमें छंद हो, लय हो।

(ग) बहुत दिन हो गए, गाने-गुनगुनाने का मन नहीं हुआ।

(घ) बहुत दिन हो गए, मन का दुख दूर नहीं हुआ और न मन में खुशी आई।


अंधकार दूर सिमटा कैसा लग रहा है?


बहुविकल्पी प्रश्न

साँचा मीत किसे कहा गया है?


Share
Notifications



      Forgot password?
Use app×