Advertisement Remove all ads

बादल गरज-गरज कर धरती पर बरसते हैं परंतु इसके बिलकुल उलट एक मुहावरा है– जो गरजते हैं, वे बरसते नहीं। - Hindi (हिंदी)

Advertisement Remove all ads
Advertisement Remove all ads
One Line Answer

"उड़ने वाले काले जलधर 

नाच-नाच कर गरज-गरज कर

ओढ़ फुहारों की सित चादर 

देख उतरते हैं धरती पर"

बादल गरज-गरज कर धरती पर बरसते हैं परंतु इसके बिलकुल उलट एक मुहावरा है–

जो गरजते हैं, वे बरसते नहीं।

कक्षा में पाँच-पाँच बच्चों के समूह बनाकर चर्चा करो कि दोनों बातों में से कौन-सी बात अधिक सही है। अपने उत्तर का कारण भी बताओ। चर्चा के बाद प्रत्येक समूह का एक प्रतिनिधि पूरी कक्षा को अपने समूह के विचार बताएगा।

Advertisement Remove all ads

Solution

बादल खूब गरज-गरज कर बरसते हैं। यह सही है परन्तु कभी-कभी बादल गरज कर भी नहीं बरसते ऐसे ही चले जाते हैं। अत: दोनों बातें सही हैं।

Concept: पद्य (Poetry) (Class 8)
  Is there an error in this question or solution?
Advertisement Remove all ads

APPEARS IN

NCERT Class 8 Hindi - Durva Part 3
Chapter 7 उठ किसान ओ
अभ्यास | Q 7. | Page 48
Advertisement Remove all ads
Share
Notifications

View all notifications


      Forgot password?
View in app×