अपनी जिंदगी को सहर्ष स्वीकारना चाहिए' इस कथन परअपने विचार लिखिए। - Hindi

Advertisements
Advertisements
Answer in Brief

अपनी जिंदगी को सहर्ष स्वीकारना चाहिए' इस कथन परअपने विचार लिखिए।

Advertisements

Solution

हमारे जीवन में अच्छा-बुरा, सफलता-असफलता, सुख- दुख जो भी मिलता है, उसे हमें सहर्ष स्वीकारना चाहिए। मानव जीवन में उतार-चढ़ाव आते ही रहते हैं। उसका अस्तित्व गति से है। अत: हमें निरंतर आगे बढ़ते रहना चाहिए। सृष्टि में ऐसे अनेक तत्त्व हैं, जिन पर मानव अभी तक विजय प्राप्त नहीं कर पाया है। बार-बार प्रयत्न करने पर भी हम आशा के अनुरूप सफलता नहीं प्राप्त कर पाते। और दुख में डूबकर उस सफलता का भी आनंद नहीं उठा पाते, जो हमें मिली है। हमें जो नहीं मिला, उसका दुख मनाने के स्थान पर जो मिल रहा है, उसे सुखी होना चाहिए। कर्तव्य करना हमारे हाथ है, परिणाम हमारे हाथ में नहीं होता। सुख और दुख दोनों इस जीवन रूपी नदी के दो तटों के समान हैं। नदी की यह गतिशीलता ही उसका जीवन है। जिस दिन नदी चलना, बहना छोड़ देगी, उस दिन उसका अस्तित्त्व समाप्त हो जाएगा। ठीक इसी प्रकार मनुष्य भी जिस दिन कर्म करना छोड़ देगा, उसके दुर्दिन प्रारंभ हो जाएंगे। और की वह घड़ियाँ जब काटे नहीं कटेंगी, तो वह एक-एक पल गिन-गिनकर काटेगा। अगर हम आगे बढ़ने का प्रयास छोड़ देंगे, तो जीवन में जड़ता घर कर जाएगी, जो बड़ी कष्टदायक स्थिति उत्पन्न कर देगी। जीवन का दूसरा नाम ही है रवानगी। क्योंकि चलना ही जीवन है, जो रुक गया, उसकी मृत्यु निश्चित है।

Concept: पद्य (Poetry) (11th Standard)
  Is there an error in this question or solution?
Chapter 12: सहर्ष स्वीकारा है - अभिव्यक्ति [Page 63]

APPEARS IN

Balbharati Hindi - Yuvakbharati 11th Standard HSC Maharashtra State Board
Chapter 12 सहर्ष स्वीकारा है
अभिव्यक्ति | Q 1 | Page 63

RELATED QUESTIONS

'पालनाघर की आवश्यकता' पर अपने विचार लिखिए।


जानकारी दीजिए:
त्रिपुरारि जी की अन्य रचनाएँ - __________________


संकल्पना स्पष्ट कीजिए -

नये स्वर्ग का प्रथम चरण


संकल्पना स्पष्ट कीजिए -

युग बंदिनी हवाएँ


लिखिए -


आशय लिखिए :

‘‘ऊँची हुई मशाल हमारी......हमारा घर है।’’


आशय लिखिए :

‘‘युग बंदिनी हवाएँ... टूट रहीं प्रतिमाएँ।’’


जानकारी दीजिए :

गिरिजाकुमार माथुर जी केकाव्यसंग्रह -


सहसंबंध जोड़कर अर्थपूर्ण वाक्य बनाइए –

(१) काहै को दुख देखिए
(२) बिरला


‘‘जिनकी रख्या तूँ करैं ते उबरे करतार’’, इस पंक्ति का भाव स्पष्ट कीजिए।


‘संत दादू के मतानुसार ईश्वर सबमें है’, इस आशय को व्यक्त करने वाली पंक्तियाँ ढूँढ़कर उनका भावार्थ स्पष्ट कीजिए।


ईश्वर भक्ति तथा प्रेम के आधार पर साखी के प्रथम छह पदों का रसास्वादन कीजिए।


जानकारी दीजिए :

निर्गुण शाखा केसंत कवि 


निम्नलिखित वाक्य शुद्ध करके फिर से लिखिए -

बाबु साहब ईश्वर के लिए मुझ पे दया कीजिए ।


निम्नलिखित वाक्य शुद्ध करके फिर से लिखिए -

उसे तुम्हारे शक्ती पर विश्वास हो गया।


निम्नलिखित वाक्य शुद्ध करके फिर से लिखिए -

वह निर्भीक व्यक्ती देश में सुधार करता घूमता था।


निम्नलिखित वाक्य शुद्ध करके फिर से लिखिए -

तुम जूठेसाबित होगा।


लिखिए :

यशोदा अपने पुत्र को शांत करते हुए कहती है -


लिखिए :

निम्नलिखित शब्दों से संबंधित पद में समाहित एक-एक पंक्ति लिखिए -

(१) फल : __________________

(२) व्यंजन : __________________

(३) पान : __________________


निम्नलिखित पंक्तियों का भावार्थ स्पष्ट कीजिए -

‘‘रचि पिराक, लड्‌डू, दधि आनौ।
तुमकौं भावत पुरी सँधानौं।।’’


जीवन में अत्यधिक मोह से अलग होने की आवश्यकता है,इस वाक्य में व्यक्त भाव प्रकट कीजिए।


जानकारी दीजिए :
मुक्तिबोध जी का साहित्य।


‘स्वागत है’ कविता में ‘डर’ का भाव व्यक्त करने वाली पंक्तियाँ ढूँढ़कर अर्थ लिखिए।


गिरमिटियों की भावना तथा कवि की संवेदना को समझतेहुए कविता का रसास्वादन कीजिए।


लिखिए:
गजलकार के अनुसार दोस्ती का अर्थ


जल में निहित जीवन के विविध भावों को आत्मसात करते हुए रसास्वादन कीजिए।


जानकारी दीजिए:
अन्य गजलकारों के नाम।


Share
Notifications



      Forgot password?
Use app×