Advertisement Remove all ads

संधारित्र तथा धारिता

Advertisement Remove all ads

Topics

description

  • संधारित्र
  • संधारित्र में संचित ऊर्जा
  • संधारित्र के अनुप्रयोग
  • धारिता पर परावैद्युत का प्रभाव
  • श्रेणीक्रम और समानांतर में संधारित्र
If you would like to contribute notes or other learning material, please submit them using the button below.

Related QuestionsVIEW ALL [8]

वायु की थोड़ी-सी चालकता के कारण सारे संसार में औसतन वायुमण्डल में विसर्जन धारा 1800 A मानी जाती है। तब यथासमय वातावरण स्वयं पूर्णतः निरावेशित होकर विद्युत उदासीन क्यों नहीं हो जाता? दूसरे शब्दों में, वातावरण को कौन आवेशित रखता है?

[संकेत : पृष्ठ आवेश घनत्व = 10-9 Cm-2 के अनुरूप पृथ्वी के (पृष्ठ) पर नीचे की दिशा में लगभग 100 Vm-1 का विद्युत क्षेत्र होता है। लगभग 50 km ऊँचाई तक (जिसके बाहर यह अच्छा चालक है) वातावरण की थोड़ी सी चालकता के कारण लगभग + 1800 C का आवेश प्रति सेकण्ड समग्र रूप से पृथ्वी में पंप होता रहता है। तथापि, पृथ्वी निरावेशित नहीं होती, क्योंकि संसार में हर समय लगातार तड़ित तथा तड़ित-झंझा होती रहती है, जो समान मात्रा में ऋणावेश पृथ्वी में पंप कर देती है।]

Advertisement Remove all ads
Share
Notifications

View all notifications


      Forgot password?
View in app×