Advertisement Remove all ads

कांग्रेस के प्रभुत्व की प्रकृति

Advertisement Remove all ads

Topics

description

  • कांग्रेस एक सामाजिक और विचारधारात्मक गठबंधन के रूप में
  • कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ इंडिया
  • गुटों में तालमेल और सहनशीलता
  • भारतीय जनसंघ
If you would like to contribute notes or other learning material, please submit them using the button below.

Related QuestionsVIEW ALL [5]

निम्नलिखित अवतरण को पढ़कर इसके आधार पर पूछे गए प्रश्नों के उत्तर दीजिए:

कांग्रेस के संगठनकर्ता पटेल कांग्रेस को दूसरे राजनितिक समूह से निसंग रखकर उसे एक सर्वांगसम तथा अनुशासित राजनितिक पार्टी बनाना चाहते थे। वे चाहते थे की कांग्रेस सबको समेटकर चलने वाला स्वभाव छोड़े और अनुशासित कॉडर से युक्त एक सगुंफित पार्टी के रूप में उभरें। 'यथार्थवादी' होने के कारण पटेल व्यापकता की जगह अनुशासन को ज़्यादा तरजीह देते थे। अगर "आंदोलन को चलाते चले जाने" के बारे में गाँधी के ख्याल हद से ज़्यादा रोमानी थे तो कांग्रेस को किसी एक विचारधारा पर चलने वाली अनुशासित तथा धुरंधर राजनितिक पार्टी के रूप में बदलने की पटेल की धारना भी उसी तरह कांग्रेस की उस समन्वयवादी भूमिका को पकड़ पाने में चूक गई जिसे कांग्रेस को आने वाले दशकों में निभाना था।

- रजनी कोठरी

  1. लेखक क्यों सोच रहा है की कांग्रेस को एक सर्वांगसम तथा अनुशासित पार्टी नहीं होना चाहिए?
  2. शुरूआती सालों में कॉंग्रेस द्वारा निभाई समन्वयवादी भूमिका के कुछ उदाहरण दीजिए।
Advertisement Remove all ads
Share
Notifications

View all notifications


      Forgot password?
View in app×