Advertisement Remove all ads

आपातकाल के बाद की राजनीति

Advertisement Remove all ads

Topics

description

  • लोकसभा के चुनाव, 1977
  • जनता सरकार
  • विरासत
If you would like to contribute notes or other learning material, please submit them using the button below.

Related QuestionsVIEW ALL [4]

निम्नलिखित अवतरण को पढ़ें और इसके आधार पर पूछे गए प्रश्नों के उत्तर दें -

1977 के चुनावों के दौरान भारतीय लोकतंत्र, दो - दलीय व्यवस्था के जितना नज़दीक आ गया था उतना पहले कभी नहीं आया। बहरहाल अगले कुछ सालों में मामला पूरी तरह बदल गया। हारने के तुरंत बाद कांग्रेस दो टुकड़ों में बँट गई ..... जनता पार्टी में भी अफरा तफरी मची .... डेविड बँटलर, अशोक लाहिडी और प्रणव रॉय

- पार्था चटर्जी

  1. किन वजहों से 1977 में भारत की राजनीती दो - दलीय प्रणाली के समान जान पड रही थी?
  2. 1977 में दो से ज़्यादा पार्टियाँ अस्तित्व में थी। इसके बावजूद लेखकगण इस दौर को दो - दलीय प्रणाली के नज़दीक क्यों बता रहे हैं?
  3. कांग्रेस और जनता पार्टी में किन कारणों से टूट पैदा हुई?
Advertisement Remove all ads
Share
Notifications

View all notifications


      Forgot password?
View in app×